पहले जमीन छीन के बांध बनाया, अब पानी और मछली से भी किया वंचित


ग्राम भूला मोहगांव के मछुआरे जिनके घर पूरी तरह से डूब गये है। इनकी रोजी रोटी का एक मात्र सहारा पेंच नदी में मछली आखेट करना तथा रेत खेती करना था, किन्तु मध्यप्रदेश सरकार ने मांचागोरा बाँध बनाकर मछुआरों से उनके रोजगार छीन लिये तथा सिवनी के ठेकेदार नीतिश कुमार कश्यप पिता गंगाचरण कश्यप, निवासी बन्डोल, तह. जिला सिवनी को दे दिया। नीतिश कुमार कश्यप छिन्दवाड़ा जिले के मांचागोरा बाँध से प्रभावित मछुआरों को मछली आखेट करने नही दे रहा है। माचागोरा बाँध से प्रभावित मछुआरों ने कर्जा लेकर अपने नाव, जाल खरीदे थे जिसे जिसे नीतिश कश्यप ने बिना मछुआरों की सहमति, अपने पास रख लिये है ताकि वे मछली आखेट न करे पायें।

नीतिश कुमार कश्यप ने छिन्दवाड़ा जिले के जिलाबदर, अपराधी प्रवृत्ति के लोगों को काम पर रखा है, जो मछुआरों के साथ गुण्डा गर्दी, महिलाओं के साथ छेड़-छाड़, बलात्कार जैसे घिनोने कृप्य कर रहे है। महिलाओं द्वारा थाने में रिपोर्ट कराने जाने पर थानेदार ठेकेदार को बुलवाता है, और समझौता करने के लिए बाध्य करता है।

मछुआरों के पास रहने के लिए मकान तक नही है, पन्नी की झोपड़ी बनाकर किसी तरह जीवन यापन कर रहें है। नीतिश कश्यप उन्हें जान से मारने की धमकी दे रहा है। पीडि़त परिवार आज पुलिस अधिक्षक छिन्दवाड़ा के समक्ष अपनी बात रखते हुए नितिश कश्यप की गिरफ्तारी की मांग करगें। मछली के ठेकेदार के खिलाफ रिपोर्ट लिखाने की बात आती है, तो 5 से 10 किलो मछली निकालने की अनुमति देता है।

नीतिश कुमार कश्यप की गुण्डा गर्दी के खिलाफ एक जुट होकर ठेका निरस्त करने के लिए जिलाधीश छिन्दवाड़ा को आज शाम 04 बजे ज्ञापन देगें तथा दिनांक 05/04/2018 को मतस्य महासंघ भोपाल को ज्ञापन देंगे।

               

Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।