गुजरात : किसानों पर छोड़े आंसू गैस के गोले


गुजरात के भावनगर में 1 अप्रेल 2018  को पुलिस और किसानों के बीच आपसी झड़प हुई किसान भावनगर जिले के एक गांव में प्रस्तावित कोयला संयंत्र के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे इस झड़प में कई लोगों के घायल होने की सूचना है किसानों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने महिलाओं और बच्चों समेत प्रदर्शनकारियों के साथ हाथापाई की. घटना में अभी तक पांच लोगों के घायल होने की सूचना है गौरतलब है कि गुजरात पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने लगभग दो दशक पहले लिग्नाइट संयंत्र स्थापित करने के लिए भावनगर में घोघा तालुक के 12 गांवों में लगभग 1,250 किसानों की 3,377 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया था

अधिग्रहण होने से लेकर अब तक यह जमीन किसानों के पास ही थी और वह इसपर खेती कर रहे थेअब किसान अधिग्रहित भूमि का कब्जा लेने के लिए कंपनी के प्रयास का विरोध कर रहे हैं किसानों को काबू में करने के लिए पुलिस ने 40 के करीब आंसू गैस के गोले छोड़े. पुलिस की इस कार्रवाई की वजह से अभी तक 5 किसानों के घायल होने की खबर आ रही है




भावनगर में सरकार ने थर्मल पावर स्टेशन के लिए जमीन अधिग्रहित की थी। पावर प्लांट के अधिकारी पुलिस के साथ जमीन पर कब्जा करने के लिए पहुंचे थे, जिसका विरोध करने पर पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज कर दिया। गुजरात के भावनगर में जमीन अधिग्रहण का विरोध कर रहे किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर करीब 40 आंसू गैस के गोले छोड़े, जिसमें 10 किसान घायल हो गए हैं। पुलिस ने 60 किसानों को हिरासत में भी लिया है। 


Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।