HEC के निजीकरण के विरोध में रांची में विशाल जनप्रतिरोध


15 फरवरी 2018। रांची, एचईसी हटिया विस्थापित परिवार समिति के द्वारा एचईसी  मुख्यालय का घेराव किया गया।  नीति आयोग के द्वारा एचईसी को विनिवेश करने की अनुसंशा केन्द्र सरकार को करने की खबर के विरोध में राष्ट्रीय सम्पति एचईसी को बचाने के मुहिम में आज विरोध किया गया। जिसमें 32 गाँव के विस्थापित और पुर्व मुख्यमंत्री बाबुलाल मरांडी, पूर्व शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की, अजय नाथ शाहदेव, वासवी किण्डो, दयामनी बारला, नगडी़ जिला परिषद ऐनुल हक,चेटे गाँव के मुख्या अजय कश्यप ,समिति के अध्यक्ष राहुल उराँव, पवन मुण्डा, संदीप कुमार प्रजापति इत्यादि उपस्थित थे।

दूसरी तरफ जन अभियान के तहत नीति आयोग के द्वारा एचईसी को विनिवेश करने की अनुसंशा केन्द्र सरकार/(PMO) को करने की खबर के विरोध में राष्ट्रीय सम्पति एचईसी को बचाने के मुहिम में आज दिनांक 15/2/18 को Sec-1पानी टँकी पटेल नगर में चौपाल लगाकर बैठक की गई। एचईसी नागरिक परिषद के बैनर तले जागरूकता अभियान के तहत एचईसी नगर परिसर के विभिन्न क्षेत्रों में चौपाल लगाकर लोगो को एकजुट किया जा रहा है। ज्ञात हो कि परिषद ने पिछले दिनों की बैठक में प्रताव पारित कर *जनांदोलन* करने की घोषणा करते हुए दिनाँक *18 मार्च 2018* को जनसैलाब जुलूस निकालकर एचईसी को बचाने की मुहिम में सरकार को चुनौती देने का ऐलान किया है।

एचईसी नागरिक परिषद के मुख्य संयोजक कैलाश यादव ने लोगों से कहा कि एचईसी बचेगा तभी कॉलोनी, झोपड़ी, बस्ती एवं बाजार हार्ट बच सकता है,लाखो की आबादी वाला एचईसी क्षेत्र में केंद्र व राज्य सरकार के द्वारा लिए गए स्मार्ट सिटी बनाने के गलत निर्णय के कारण आज लाखो लोगो पर खतरा मंडरा रहा है,इसमें सबसे ज्यादा दोषी एचईसी प्रबंधन का है,क्योंकि मेरा मानना है कि एचईसी प्रबंधन ने सरकार को सही तथ्यों से अवगत नहीं कराया,जबकि एचईसी के विस्थापितो, कामगार, रिटायर्ड कर्मचारी,एवं सप्लाई कर्मचारियों* की वर्षो से मुआवजे एवं स्थायीकरण तथा एक समान वेतन करने जैसी महत्वपूर्ण मांगे लंबित है।

जहां तक कि 1995 से एचईसी में 90 वर्ष के लिए लोगो को आवंटन किये गए *एलटीएल क्वार्टर* को अभीतक रजिस्टर्ड भी नहीं किया गया।जबकि दलील में शर्त अनुसार *एलटीएल क्वाटर्स* को *agreement के जगह razisterd* करने की बात है।यादव ने कहा कि एचईसी परिसर में रहने वाले लाखों लोगों को धोखे में रखा जा रहा है,जबकि जमीन अधिग्रहण के पहले सारी *liablity* खत्म करने की बात होनी चाहिए था, इस विषैले कार्य मे राजनीतिक दल के कुछ लोग शामिल है,जिसे आनेवाले समय मे पर्दाफाश किया जायेग।

लोगो ने एकजुटता से नारा लगाया एचईसी के हित में किसी भी  हाल में Smart City को बनने नहीं दिया जाएगा।

चाहे इसके लिए हमलोगों को कोई भी कुर्बानी क्यो ना देना पड़े।
हर हाल में एचईसी के ऊपर बुरी नजर लगाने वालो का मुंहतोड़ जवाब दिया जायेगा,इसलिए आपलोग गली-गली प्रचार कर लोगो को एकजुट कीजिए।

जल्द ही एक लाख पम्पलेट हर घरो मे, बाजार हार्ट,फुटकर व्यपारी तथा टेम्पो वाहन में बांटा जायेगा।
लोगो अब समय आ गया है जाति एंव पार्टी को दरकिनार कर एचईसी को बचाया जाय। इसके लिए हम लोगों को 18 मार्च 2018 को जनसैलाब जुलूस निकालकर सरकार को चेतावनी देने की कार्य करना है,इसलिए हर जगह चौपाल लगाकर लोगो को जागरूक किया जा रहा है।

आज काफी संख्या में लोगो ने जुड़कर समर्थन देने की घोषणा की।
बैठक की अध्यक्षता नीतू देवी ने की,चौपाल कार्यक्रम में,कांति देवी,राजकिशोर सिंह, गौरीशंकर यादव,विकास सिंह,प्रीतम कुमार,मानिकचन्द राम,ललन सिंह, बेबी देवी,पिंकी देवी,लक्ष्मी देवी,शांति देवी,मंजू देवी,छोटू,पप्पू उपाध्याय, कंचन केशरी,बिजय साहू,इंद्रदेव पासवान,बृजमोहन मिश्रा,रामजी गुप्ता,तपेश्वर पांडेय,केदार प्रसाद,सुलेमान मिंया,एनामुल हक,मालती देवी,सुनील यादव,कमल यादव,विद्या यादव,सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

चरणबद्व कार्यक्रम
16/2/18 को चौपाल कार्यक्रम बर झोपड़ी नायक मोहल्ला मित्र मंडल क्लब में शाम 4:30 बजे से किया जायेगा,
एवं 18/2/18 को दलित वर्ग कार्यालय प्रांगण sec-2 में दोपहर 3:बजे से चौपाल लगाया जायेगा।

Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।