राजस्थान : कर्ज मुक्ति पर किसानों का सम्मेलन, किसान विरोधी बजट की प्रतियाँ 12 से 19 फरवरी जलाने का ऐलान



-बसन्त हरियाणा

7 फरवरी 2018 को कुमारानंद भवन जयपुर में देश भर के 192 किसान संगठनों के अखिल भारतीय किसान सँघर्ष समन्वय समिति का राजस्थान राज्य का कन्वेंशन आयोजित किया गया। कन्वेंशन मुख्य तौर पर किसानों की संपूर्ण कर्जा माफी तथा फसलों के लाभकारी मूल्य की मांगों को लेकर आयोजित किया गया। सम्मेलन को अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी एम सिंह,सांसद राजू शेट्टी, कामरेड,अतुल अंजान,डॉक्टर सुनीलम,कृष्णकांत सहित कई राष्ट्रीय किसान नेताओ ने संबोधित किया।

सम्मेलन में 12 फरवरी से 19 फरवरी तक सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ देशभर में जिला मुख्यालय से लेकर तहसील स्तर और गांव तक सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन व किसान विरोधी केंद्रीय बजट की प्रतियां जलाने का निर्णय भी लिया गया एवम राजस्थान में किसानो के कर्ज माफ़ी के सवाल पर सरकार की वादा खिलाफी के खिलाफ अखिल भारतीय किसान सभा के द्वारा 22 फरवरी18 को विधानसभा पर किये जाने वाले घेराव को भी  कन्वेंशन में शामिल तमाम संगठनों ने अपना समर्थन देते हुए उपरोक्त घेराव में अपनी ताकत से भागीदारी करने का ऐलान किया।

इस अवसर पर कन्वेंशन में अध्यक्ष मंडल में वक्ताओं में एवं उपस्थित लोगों में निम्न गणमान्य लोग शामिल थे, कामरेड अमरारामकामरेड तारा सिंह, विज्ञान मोदी,कामरेड रविन्द्र शुक्ला, सवाई सिंह,कामरेड महेंद्र चौधरी,कामरेड निशा सिधू, आर सी,शर्मा,गुरुचरण मोड़, अब्दुल हमीद गोड़, पन्ना लाल मीणा, हनुमाना राम, बद्रीप्रसाद ढाका, पत्रकार मो.फारुख, अनिल गोस्वामी, एडवोकेट, अरविंद भारद्वाज,उमेश शर्मा,चन्द्र शेखर दुबे विनोद यादवफूलचंद डेवा, मुकेश निर्वासित,राजकुमार वर्मा, फजले करीम कुरेशी, पवन बेनीवाल,ज़ाहिद निर्बान,शैलेन्द्र अवस्थी,प्रो.सी बी यादव,राधेश्याम शुक्लवास,, प्रेम जी, कैलाश जी,प्रो.गोपाल मोदानी, बसन्त हरियाणा सहितओर भी कई साथी जिनके नाम फ़िलहाल याद नही आ रहे है। सम्मेलन में सी पी आई के नरेंद्र आचार्य  ने क्रांतिकारी गीत पेश किया, कन्वेंशन का संचालन कामरेड संजय माधव ने किया चाय का इंतजाम साथी गुफरान ने किया।






Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।