किसान सिंचाई आंदोलन : किसानों ने प्रशासन को दी 10 फ़रवरी तक की मोहलत


श्रीगंगानगर जिले के सूरतगढ़ एटा-सिंगरासर माइनर नहर आंदोलन में पूर्व घोषणा के अनुसार 54 गांवों के किसानों ने 5 फ़रवरी को थर्मल के मुख्य द्वार से एक किलोमीटर दूर पर सभा की.

थर्मल परियोजना के एक किलोमीटर दायरे में धारा 144 भी लागू थी. इसके साथ ही थर्मल कॉलोनी सहित प्रभात नगर में भी निषेधाज्ञा लागू थी.

किसान प्रभात नगर में धारा तोड़ते हुए प्लांट के गेट से एक किलोमीटर दूर रुके और सभा की. सभा के दौरान किसान नेताओं ने प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि 10 फ़रवरी तक सिंचाई के लिए पानी उपलब्द करवाए नहीं तो 11 फ़रवरी से प्लांट पर महापड़ाव डाल कर कब्जा कर लिया जायेगा.





तस्वीरें : राजेश नोखवाल
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।