एनटीपीसी रेल कारीडोर सीक्रेट प्रोजेक्ट : नहीं दी जा सकती जानकारी


छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले  में एनटीपीसी अपना एक थर्मल पॉवर प्लांट स्थापित कर रही है जिसके लिए एक रेल कोरिडोर का निर्माण किया जा रहा है. इस रेल कोरिडोर में एनटीपीसी द्वारा स्वीकृत रास्ते के बजाय दूसरे काश्तकारों की जमीन का भूअर्जन किया जा रहा है .जन चेतना ने इस से जुडी जानकारी कम्पनी से मांगी तो सीक्रेट प्रोजेक्ट का हवाला देते हुए एनटीपीसी ने जानकारी देने से इंकार कर दिया है. पढ़े जन चेतना द्वारा जारी विज्ञप्ति;

सूचना का अधिकार के तहत मांगी गई जानकारी में एनटीपीसी का कहना है कि ये उनका ट्रेड सीक्रेट है और इसकी जानकारी नहीं दी जा सकती |

दरअसल जन चेतना को काफी शिकायतें मिल रही थी एनटीपीसी द्वारा स्वीकृत रास्ते की बजाय किन्ही दूसरों  की जमीन का भूअर्जन किया जा रहा है | राजस्व जमीन के अलावा कारीडोर के रास्ते में जंगल की जमीन भी पड़ती है जिसके लिये केन्द्रीय पर्यावरण मंत्रालय से मंजूरी आवश्यक है | शिकायतों की जांच करने के उद्देश्य ही  जन चेतना के रमेश अग्रवाल ने रेल कारीडोर केरास्ते का  ले आउट नक्शा माँगा था |

अब समझ में नहीं आता इसमें एनटीपीसी के कौन से व्यापारिक हित प्रभावित होते हैं जो कि जानकारी नहीं दी जा सकती | रमेश अग्रवाल का कहना है उन्होंने तलाईपाली खदान का एमडीओ देने में एनटीपीसी के अधिकारी ने कितनी रिश्वत ली ये तो पूछा नहीं था, सीधीसादी जानकारी मांगी थी |

यही जानकारी वन मंडल रायगढ़ से भी मांगी गई थी | उन्होंने जानकारी देने से मना तो नहीं किया लेकिन देने में आनाकानी जरुर कर रहे हैं |

इससे लगता है कंही न कंही गड़बड़ी जरुर है और ग्रामीणों की शिकायत बेबुनियाद नहीं है |

Share on Google Plus

jitendra chahar के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।