गुजरात : भांड भूत बैराज के विरोध में मछुआरों ने दिखाएँ मोदी को काले झंडे


- पवन यादव 

8 अक्टूबर 2017 को गुजरात के भरूच  जिले के मछुवारों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा भाडभूत गाँव में बैराज के उद्घाटन का नावडियों द्वारा नर्मदा नदी में उतर कर काले झंडे दिखा कर विरोध किया । विरोध करने आये 250 से ज्यादा मछुवारों को पुलिस ने हिरासत में लिया ।

पूरी परियोजना भाडभूत गांव में नर्मदा नदी को बाधित करेगी जो की हिलसा और अन्य मछली प्रजातियों की प्रजनन भूमि से 40 किलोमीटर दूर है। यह बाँध मुहाना के प्रजनन मैदान को तबाह कर देगा। प्रस्तावित परियोजना से होने वाले विस्थापन से मछुवारों की आजीविका और जीवन ख़तम हो सकता है। नर्मदा बचाओ आन्दोलन भरुछ के मछुवारो के नर्मदा नदी को बचाने के संघर्ष में उनके साथ है।

प्रदुषण के कारण मत्स्य पालन घट कर 50 प्रतिशत हो गया है । बिना किसी गहन अध्यन के SEIAA द्वारा CRZ निकासी दे दी गयी है जो की विवाद ग्रस्त है।

प्रस्तावित परियोजना से होने वाले विस्थापन से मछुवारों की आजीविका और जीवन ख़तम हो जायेगा । इससे स्थानांतरण लवणता संतुलन गायब हो जाएगा जो नर्मदा मुहाना की मृत्यु का कारण होगा । नर्मदा बचाओ आन्दोलन भरूच  के मछुवारो के नर्मदा नदी को बचने के संघर्ष में उनके साथ है।






Share on Google Plus

jitendra chahar के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।