उत्तर प्रदेश : गेल कंपनी गेट पर किसानों ने जड़ा ताला


गेल की वादाखिलाफी से परेशान हो चुके उत्तर प्रदेश के सहारपुर के किसानों ने आज 11 सितंबर को गेल गेट पर प्रदर्शन करते हुए गेट पर ताला जड़ दिया है।

अपने मुआवजे के लिए गेल से कई बार गुहार लगा चुके किसानों ने कहा है कि अगर 18 सितंबर, 2017 तक 17 गांवों का मुआवजा और पूर्व की किसानों की सभी समस्याओं को नहीं सुलझाया गया तो वे दीपाखेड़ी सब स्टेशन को अपने कब्जे में ले गैस आपूर्ति बंद कर देंगे, जिसका जिम्मेदार गैल इंडिया मैनेजमेंट होगा।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में 15 जून, 2015 को क्षेत्रीय सांसद हुकुम सिंह द्वारा तत्कालीन जिलाधिकारी इंद्रवीर यादव, गेल इंडिया अधिकारियों और किसानों के मध्य एक समझौता पारित कराया गया था, जिसमें तय किया गया था कि गेल इंडिया से प्रभावित किसानों को समतलीकरण का पचास रुपए प्रति वर्ग मीटर की दर से मुआवजा दिया जाएगा। मुआवजा 53 गांवों में तो दिया गया, लेकिन 17 गांव जो दीपाखेड़ी से दंकोवाली तक पड़ते हैं, वहां के किसानों का मुआवजा अभी तक नहीं दिया गया है।

अब गेल अधिकारी उन 17 गांवों को यह कहकर मुआवजा देने से साफ इंकार कर रहे हैं कि यह लाइन एचपीसीएल की है, जबकि जब मुआवजा तय किया गया था किसानों को इस बारे में कुछ भी पता नहीं था। किसानों का कहना है कि उन्होंने तब गेल के नाम पर ही समझौते पर हामी भरी थी।

अपने मुआवजे के लिए किसान कई बार गेल के नोएडा आॅफिस में संपर्क कर चुके हैं, मगर उन्हें कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया। इससे गुस्साए किसानों ने निर्णय लिया है कि जब तक उनका मुआवजा नहीं मिल जाता वे लोग गेल द्वारा प्रस्तावित किसी भी काम को क्षेत्र में नहीं होने देंगे।

साभार : जनज्वार
Share on Google Plus

jitendra chahar के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।