हरियाणा : पिछले 15 दिनों से आईसीन कंपनी के मजदूर अपने अधिकारों के लिए हड़ताल पर


अमित आकाश 

रोहतक के आईसीन कंपनी में यूनियन और अधिकारों के लिए पिछले 3 मई से 800 मज़दूर प्लांट के बाहर है और संघर्षरत है।

17 मई 2017; हरियाणा के रोहतक शहर स्थित आईसन कंपनी के मजदूर अपने संघर्ष के 15वे  दिन भी कड़ी धूप में टिके रहे आज लू और गर्मी के कारण 6 साथियों की तबीयत बिगड़ गई जिसमें 4 पुरुष साथी और दो महिला साथी शामिल थी इसके अलावा दो मजदूर साथियों की हालत ज्यादा गंभीर होने के कारण उन्हें रोहतक पीजीआई में दाखिल करना पड़ा जिनके नाम विश्वजीत और प्रताप है आज सुबह फिर से उपायुक्त कार्यालय से फोन आया बातचीत के लिए उपायुक्त महोदय ने बातचीत की कल वह नहीं मिल पाए थे उपायुक्त महोदय ने बताया कि आप का मामला श्रम विभाग चंडीगढ़ में संप्रेषित कर दिया गया है जल्द ही उसका निपटारा किया जाएगा उपायुक्त महोदय ने 2 दिन का और समय मांगा है इसके अलावा आइसन के मजदूर शहर के अन्य मजदूरों और संगठनों से बातचीत कर रहे हैं ताकि आगे बढ़ी आंदोलनात्मक कार्रवाई की जा सके आज शाम को आईएमटी परिसर के अंदर जुलूस निकाला गया ।

एचएसआईआईडीसी के सामने करीब 20 मिनट तक मजदूरों ने जोरदार नारेबाजी की आईसन ऑटोमोटिव हरियाणा मजदूर यूनियन के प्रधान जसवीर हुड्डा और महासचिव अनिल शर्मा का कहना है कि हम बड़ी आंदोलनात्मक कार्यवाही के लिए अपनी कमर कस चुके हैं मजदूरों के सब्र का बांध लगातार टूटता जा रहा है प्रशासन से हार्दिक आग्रह है कि जल्द से जल्द इस पूरे मामले का निपटारा किया जाए नहीं तो किसी भी प्रकार की अव्यवस्था का जिम्मेदार रोहतक प्रशासन और कंपनी प्रबंधन होगा मजदूर 15 दिन से बिना टेंट के बिना मूलभूत सुविधाओं के कंपनी गेट पर बैठे हैं स्थानीय प्रशासन और प्रबंधन के लिए यह बेहद शर्म की बात है इसलिए इस पूरे मामले का जल्द से जल्द निपटारा किया जाए।

धन्यवाद आपका अपना साथी सोनू प्रजापति आईसन ऑटोमोटिव हरियाणा मजदूर यूनियन आईएमटी रोहतक"
आईसीन के संघर्षरत साथियों को लाल सलाम!






अमित आकाश की वॉल से साभार 

Share on Google Plus

jitendra chahar के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।