ब्राजील : अपनी जमीन बचाने संसद में घुसे आदिवासियों पर पुलिस ने फेंके आंसू गैस के गोले


26 अप्रैल 2017 के दैनिक हिंदुस्तान में छपी खबर के अनुसार अपनी जमीन के लिए सड़क पर प्रदर्शन कर रहे ब्राजील के अमेजोनियन आदिवासी के लोग तीर-कमान लेकर पुलिस से भिड़ गए। इसके अलावा कई आदिवासियों ने गुलेल लेकर पुलिस पर हमला कर दिया। ये सभी पुलिस द्वारा छोड़े गए आंसू गैस के गोलों से नाराज थे। एक अंग्रेजी वेबसाइट में छपी खबर के अनुसार, बड़ी संख्या में आदिवासी ब्राजील की राजधानी ब्राजीलिया में प्रदर्शन कर रहे थे। अपनी जमीन वापस लेने के अलावा इन आदिवासियों की मांग प्रशासन द्वारा उनको और अधिक अधिकार दिए जाने की थी। प्रदर्शन में तमाम आदिवासी ताबूत को भी लेकर पहुंचे थे।

58 वर्षीय इतिहासकार मारजी डी ओलीवेरा का कहना है कि ये ताबूत बीते कुछ सालों में 305 जातीय समूह के आदिवासियों की हुई मौतों का प्रतीक है। वहीं, प्रदर्शनकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस के साथ हुई इस भिड़त में चार लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। हालांकि, पुलिस ने इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी। इस जुलूस की कोऑर्डिनेटर सोनिया गुआजाजारा ने बताया कि इस प्रदर्शन में तकरीबन 4000 लोग शामिल हुए। वहीं, पुलिस ने बयान जारी कर कहा है कि प्रदर्शनकारियों ने अपनी सीमाओं को लांघा है। उन्होंने पुलिस के साथ किए गए समझौते का पालन नहीं किया। वे लगातार आक्रमण की धमकी दे रहे थे।

Share on Google Plus

jitendra chahar के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।