जंतर मंतर पर तमिल किसान आंदोलन का 38वां दिन : नरेंद्र मोदी के नकाब वाले शख्स से खुद को कोड़े लगवा रहे किसान


नयी दिल्ली 19 अप्रेल 2017; तमिलनाडु के किसान 37 दिनों से दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदर्शन कर रहे हैं। ये किसान केंद्र से अपने लोन की माफी की मांग कर रहे हैं। उन किसानों का कहना है कि उनकी फसल कई बार आए सूखे और चक्रवात में बर्बाद हो चुकी है। किसानों ने उन लोगों को मिलने वाले राहत पैकेज पर भी पुनर्विचार करने के लिए कहा है। किसानों की यह भी मांग है कि उनको अगली साल के लिए बीज खरीदने दिए जाएं और हुए नुकसान की भरपाई की जाए।

जंतर मंतर पर बैठे तमिलनाडु के किसान अब नए तरीके से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। हाल में उन्होंने एक शख्स को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुखौटा पहनाया और फिर वहां बैठे सारे किसानों पर उससे कोड़े लगवाए। कोड़े मार रहे शख्स ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुखौटा पहनने के अलावा उनकी तरह के कपड़े भी पहन रखे थे। प्रदर्शन कर रहे किसानों ने हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए कहा, ‘हम लोगों को नजरअंदाज करके मोदी ने बता दिया कि वह हम लोगों को दिल्ली से भगाना चाहते हैं, कभी-कभी तो हमें लगता है कि इससे अच्छा तो हम लोगों को गिरफ्तार कर लिया जाए।’ नेशनल साउथ इंडियन रिवर लिंकिंग फार्मर के प्रदेश अध्यक्ष पी आय्याकन्नू ने कहा कि कोड़े की मार झेलने के लिए 25 किसान अपने आप सामने आए। लेकिन 23 पिटाई की मार को ज्यादा देर झेल नहीं पाए।

किसानों में पीएम मोदी को लेकर खासी नाराजगी है। एक किसान ने कहा कि हम लोग यहां गर्म सड़क पर सो रहे हैं और पीएम एसी वाले कमरे में रहते हैं। कुछ किसानों ने दावा किया कि मोदी किसानों से गुलामों जैसा बर्ताव कर रहे हैं।

जंतर मंतर पर बैठे किसान अरुण जेटली, उमा भारती, राजनाथ सिंह, राधा मोहन सिंह से मिल चुके हैं। लेकिन पीएम मोदी से उनकी मुलाकात नहीं हुई है। वे लोग ‘मोदी जी, मोदी जी जंतर मंतर आओ जी’ के नारे लगाते भी देखे गए हैं।साभार : जनसत्ता 
















Share on Google Plus

jitendra chahar के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।