19 साल अदालत के चक्कर काटने के बाद मिला मुलताई के किसानों को न्याय


मध्य प्रदेश के मुलताई में 1998 पर किसानों पर पुलिस गोली चालन से जुड़े 6 प्रकरणों में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायालय मोहन तिवारी जी ने शासन द्वारा की गई अपीलें खारिज कर दी हैं। इस फैसले के बाद किसान संघर्ष समिति के डॉ. सुनीलम समेत 50  किसानों का 19 साल से मुलताई अदालत का इन प्रकरणो में चक्कर लगाना अब खत्म हुआ। शासन द्वारा 67 फर्जी प्रकरण 12 जनवरी 1998  के पुलिस गोली चालन में 24 किसानो के शहीद होने व 150 किसानों के पुलिस गोलीचालन में घायल होने के बाद दर्ज किये गए थे। 12 जनवरी को शहीद किसानो की 19वीं बरसी है। देखना है कि शासन उच्च न्यायालय जाता है कि नहीं। अधिवक्ता आराधना भार्गव जी ने किसानों की निःशुल्क पैरवी की है।






Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।