पिछले 10 दिनों से प्रशासन की तमाम कोशिशों के बावजूद झुग्गियां नहीं तोड़ने दे रहे हैं कठपुतली कॉलोनी के निवासी


नई दिल्ली के कठपुतली कॉलोनी के निवासी पिछले 10 दिनों से लगातार अपनी झुग्गियां तोड़े जाने की कोशिशों के खिलाफ संघर्ष कर रहे हैं. पुलिस की तमाम कोशिशों के बावजूद आज ग्यारहवें दिन भी जनसभा आयोजित की गई. प्रस्तुत है जनसभा पर जन आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय की संक्षिप्त रिपोर्ट;


जबरन पर्ची काटने और घर तोड़ने के खिलाफ “झुग्गी नहीं, चुप्पी तोड़ो” के नारों से गूँज उठा कठपुतली कॉलोनी।
पुलिस ने आज फिर लोगों को जनसभा करने से रोकने की कोशिश, सुबह से बैठी रही पुलिस जनसभा के स्थल।
पुलिस की मौजूदगी में लगभग 2 घंटे शांतिपूर्वक चली जनसभा, आदिवासी समाज के प्रधान भी जुड़े संघर्ष से।

कठपुतली कॉलोनी | जनवरी 04, 2017 : संघर्ष के 11वें दिन फिर से पुलिस ने जनसभा को होने से रोकने की कोशिश की जो लोगों के सवालों के सामने मौन रहे। जनसभा सफलतापूर्वक लगभग 2 घंटे चली, जिसमें गीत-संगीत, जोशीले नारों के साथ और भी समाज के ज्यादा संख्या में लोग जुड़े। आज सभा में रोज की तरह सभी समाज के लोग पहुंचे और विशेष तौर पर आदिवासी समाज के प्रधान ने अपनी बात रखते हुए, जबरन और अन्यायपूर्ण तरीके से कट रहे पर्ची और पुलिस बल की मौजूदगी के खिलाफ उन्होंने अपना और पूरे समाज का समर्थन और भागीदारी इस संघर्ष में देने की बात कही। इसके साथ ही लोगों नें सरकार के सामने गंभीर सवाल खड़े किये है, जिसमें कॉलोनी में रहते हुए इतने वर्षों के बाद भी पक्की सड़क, नालियाँ, शौचालय आदि ना बने होने या उनके रखरखाव पर प्रश्न उठाये।

“वहीँ डी.डी.ए. के अधिकारी, बनाना तो दूर की बात है, नहीं चल रहे सार्वजनिक शौचालय को आज से एक हफ्ते पहले ही बिना लोगो की जानकारी के तोड़ दिया”, ऐसा कठपुतली कॉलोनी के निवासियों ने बतलाया।

“कई वर्षों से नागरिक सुविधा के लिए कोई भी कार्य नहीं हुआ है कॉलोनी में जिससे लोग परेशान हो रहे है और उनपर यहाँ से जाने का दवाब बनाया जा रहा है, कोई भी अधिकारी हमे यहीं सुविधा देने की बात नहीं करता है, बल्कि हमें यहाँ से भगा कर मंजिले खड़े करने का सपना दिखाती है।“

“सभी निवासियों का नाम सर्वे लिस्ट में नहीं है और ऐसा बताने पर डी.डी.ए. के अधिकारी गोल-मटोल जवाब देते है, कि आप पर्ची कटवा लो हम बाद में आपका नाम डाल देंगे। जो कि सरासर धोखा होगा हमारे साथ।“

“डी.डी.ए. क्यों नहीं सभी निवासियों की अंतिम सूची बनाकर पहले अपनी वेबसाइट पर डालती है, क्यों पर्ची कटवाने का दवाब डालती रहती है। वो अंतिम सूची में आज तक रहने वाले सारे परिवारों का नाम डाले और सूची वेबसाइट पर जारी करने के बाद हमसे बात करने आयें।“ कठपुतली कॉलोनी के महिलाओं ने कहा।

उधर डी.डी.ए. के अधिकारियों द्वारा लगाये कैंप में आज भी लोग नदारद रहे। पुलिस की मौजूदगी अलग अलग समय में पूरे कॉलोनी में अलग अलग जगह बनी रही। जबरन पर्ची काटना और लोगों पर अवांछित दवाब बनाने का दौर अभी भी जारी है और इसी बीच लोगों के बीच अफवाह फैलाने का दौर भी थम नहीं रहा है। लोगों को बहकाने की कोशिश पूरे चरम पर है। इसके बाद भी लोगों की एकता अटूट दिख रही है और दिन प्रतिदिन अलग अलग समाज से लोग बड़ी से बड़ी संख्या में जुड़ते जा रहे है।
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।