78 दिनों के बाद अखिल गोगोई जेल से रिहा : असम नागरिक कानूनों में हो रहे संशोधन के खिलाफ संगठित लड़ाई का ऐलान


-बोनोजीत हुसैन 

असम; 2 अक्टूबर 2016 को गिरफ्तार कृषक मुक्ति संग्राम के नेता अखिल गोगोई को 78 दिनों बाद आज 19 दिसंबर 2016 को जमानत मिल गई। जमानत के तुरंत बाद अखिल ने गोलाघाट में एक विशाल जनरैली को संबोधित किया। गोगोई ने रैली में कहा कि भाजपा सरकार असम के नागरिक कानून में संशोधन करके असम समझौते को बदलने का प्रयास कर रही है। केएमएसएस इस पहल के खिलाफ संगठित होकर लड़ाई लड़ेगी।

उन्होंने नीलामी के जरिये असम की तेल क्षेत्रों के निजीकरण के खिलाफ भी जंग छेड़ने का निर्णय किया और असम लोग सेवा आयोग में भ्रष्टाचार के लिए चल रही जांच पर तार्किक निष्कर्ष तक पहुंचाने का संकल्प लिया।


तस्वीरे : अशरफुल इस्लाम 
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।