झारखण्ड : जमीन के बदले रोजगार माँगा सरकार और कंपनी ने गोली से भून डाला


-दयामनी बारला

झारखण्ड के रामगढ़ जिले के गोला क्षेत्र में इनलैंड पावर लिमिटेड (आइपीएल) ने  2011 में  बरियातू के रामलखन के परिवार से 4 एकड़ 30 डिसमिल खेती की जमीन 1500 रू के दर से अधिग्रहित कर ली। रामलखन के परिवार वालों को कम्पनी की तरफ से बताया कि आपको जमीन के बदले नैकरी, सड़क, बिजली, पानी, अस्पताल दिया जाएगा। कंपनी शुरू हुए पांच साल हो गए । जमीन देने वालों में से एक को भी नौकरी नहीं मिली। सिर्फ बाहर के लोगों को ही नौकरी दिया गया ।

नागरिक चेतना मंच के बैनर तले विस्थापित आदिवासी पिछले कई दिनों से अपनी मांगों को लेकर फैक्टरी के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे। 29 अगस्त 2016 की शाम भाजपा सरकार की पुलिस ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी गई।  पुलिस की गोली से दो लोगों की मौत हो गयी।  करीब दर्जन भर लोग घायल हैं।  इनमें चार को रिम्स रेफर किया गया है. भगदड़ में जमीन पर गिरे लोगों को पुलिसकर्मियों ने जूतों से रौंदा और बंदूक के कुंदे से पीटा।  पुलिस ने किसी को नहीं बख्शा, जो मिला उसकी पिटाई कर दी।




Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।