मोदी राज के अच्छे दिन : किसान आत्महत्याओं में 40 प्रतिशत की वृद्धि


बीते एक साल के दौरान भारत में किसानों की आत्महत्या के मामलों में 40 फ़ीसदी का इजाफा हुआ है.

'इंडियन एक्सप्रेस' ने अपनी ख़बर में सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया है कि साल 2014 में 5650 किसानों ने आत्महत्या की थी जबकि साल 2015 में ऐसे मामलों की संख्या 8 हज़ार के पार हो चुकी है.

अख़बार ने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि ऐसे मामलों में महाराष्ट्र सबसे आगे है.

महाराष्ट्र में साल 2014-15 के दौरान आत्महत्या के मामलों में 18 फ़ीसदी इजाफा हुआ है.

लेकिन सबसे ज्यादा वृद्धि कर्नाटक में हुई है. जहां 2014 में ऐसे मामलों की संख्या 321 थी जो अब बढ़कर 1300 हो गई है.
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।