ज़रूरी अलर्ट पेंच बांध : अडानी के पॉवर प्लांट के लिए आदिवासियों के 30 गाँव डुबोने की तैयारी, ग्रामीण दहशत में


9 जुलाई 2016; मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले के बारहबिरहारी गाँव में पेंच बांध का पानी भरना शुरू हो गया है. लोग अपने सामान को समेटना शुरू कर दिए है. पुलिस सहरत मंसूरी और कलाम बी मंसूरी को गिरिफ्तार करके ले गई है। घर पर उनकी दो बेटीया है. गांव की  बिजली काट दी गई है. प्रशासन द्वारा आदिवासियों के 30 गाँव डूबोने के लिए धारा 144 लागू कर दी गई है.

किसान संघर्ष समिति ने जबरन डूब के विरोध में आज जिलाधिकार को ज्ञापन दिया है.  ज्ञात रहे कि आज बिजली विभाग द्वारा गांव की लाईट काट दी गई, ट्रासंफारमर निकाल दिया गया, गांव में घोर अँधेरा है। लोगों का पुनर्वास नहीं हुआ है, मुआवजे की राशी नहीं दी गई है, कुआं नलकूप पाईप लाईन का मुआवजा भी नहीं दिया है, आदिवासीयों को जमीन के बदले जमीन नहीं दी गयी है । पुर्नवास स्थल पर पानी, बिजली की कोई व्यवस्था नहीं की गई है विस्थापित परिवारों को जल समाधी लेंने पर मजबूर किया जा रहा है। कभी भी गाँव डूब सकते है, गांवों में पुलिस कार्यवाही ( ग्रामीणो को खदेड़ने के लिए) के लिए पुलिस बल तैनात है।









Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।