किसान क्रेडिट कार्ड : किसानों की लूट का कार्ड

-
बैंक के दलाल और बैंकमित्र दिलवाते है एक से अधिक बैंकों से कर्जा !!!
- तयशुदा कमीशन दीजिये और मनमाफिक कर्जा लीजिये !

आशीष सागर 

18 मई बाँदा - बुंदेलखंड के सात जिले उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री ने सुखाप्रभावित क्षेत्र घोषित कर दिए है ! केंद्रीय दल को मुख्यमंत्री के इस कदम की प्रतीक्षा थी ताकि वे यहाँ आकर किसानों का सूरते हाल ले सके ! जाहिर है1600 करोड़ रूपये कोई यूँ ही थोड़े ही देता है सूखा राहत को ! यह अलग बात है पूर्व में ही सैकड़ों अतिगरीब किसान जो लेखपाल और सीडीओ / बीडीओ के पहुँच वाले नही है या सुविधा शुल्क देने की स्थति में नही रहे उन्हें आज भी सूखा राहत का चेक नही मिला ! जबकि बड़े अलमबरदार किसानों को सूखा राहत के चेक दिए गए यथा जैसे कृषि विभाग अपनी योजना में करता आया है !

बाँदा जिला के बदोसा / थाना फतेहगंज में महुई गाँव के धोबिन पुरवा निवासी 35 वर्षीया युवा मोहन पुत्र महिपाल ने बीती रात खपरैल से लटककर जान दे दी ! बतलाते है उसके ग्यारह बीघे में फसल नही हुई थी ! किसान क्रेडिट कार्ड पर 1.40 लाख रूपये का कर्जा था ! मृतक की पत्नी मंजू ने कर्जे की बात कही है जबकि प्रसाशन गृह कलह बतला रहा है ! उधर इसी क्षेत्र के ग्राम पंचायत संग्रामपुर में बीती 14 मई को हम वहां गए थे कि बुंदेलखंड का किसान क्रेडिट कार्ड के मकड़जाल में कैसे उलझता है और बाद में कर्जा अदा नही होता ! ऐसा सातों जिलों में है कि एक - एक किसान तीन बैंक से नोडयुज( इस बात का कि किसान की जमीन कही बंधक नही है ) बनवाकर किसान क्रेडिट कार्ड पर खेती के लिए कर्जा लिए है !

मेरे एक करीबी बैंक मित्र ने इस खेल की पूरी जानकारी प्रदान की और यह भी कहा कि पहले जो काम दलाल या बिचौलिया करता था वो अब बैंक मित्र कर रहे है ! ग्राम पंचायत संग्रामपुर में पूरा गाँव कर्जदार है ( वीरमपुर,छ्त्तुपुर,धोबिनपुर आदि ) ! ग्रामीण पानी के संकट से हलकान है, गांववाले इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक,शाखा फतेहगंज के मैनेजर एसके. सिंह पर गंभीर आरोप लगाते है कि वह बिना 5%कमीशन खोरी के कर्जा नही देता है,किसानो का फसल बीमा,बैंक प्रीमियम काट लेता है ! कई साल से जमे यह मनेजर साहेब मेरे सामने ग्राम प्रधान रामनरेश पटेल को हड़काते है फोन में कि तुमने मेरे नाम क्यों बतलाया .जिसको काम है बैंक आये !

गाँव के ओमप्रकाश त्रिपाठी तो बैंक मैनेजर से बेहद आहत है ! उन्होंने राजाराम गर्ग नाम के दलाल का नाम भी लिया जो कई वर्ष से फतेहगंज क्षेत्र के बैंक का गुर्गा है ! तस्वीर में गाँव के फक्कड़ पुत्र रामआसरे ने पचास हजार का कर्जा दिलवाने की बात की ,उसको 70 हजार मिले लेकिन उसकी हालत उस दिन तब पतली हो गई बुजुर्गियत में जब पता चला कि 2,50,000 रूपये किसान क्रेडिट कार्ड का कर्जा चढ़ा है ! कार्ड संख्या 1552 उसके लिए अब काल है ! यही हाल शिवराम का है उसने 90 हजार लिया कर्ज और क्रेडिट कार्ड में 2,26,000 रूपये देनदारी है !

गाँव के रामादीन,अछेलाल सहित अन्य किसान का है ! वे कहते है गरीब से भी बिना 5 हजार रूपये कमीशन लिए बैंकमित्र मैनेजर से कार्ड में कर्जा नही दिलवाता है कही भी ! एक वजह ये भी है कि बुंदेलखंड का किसान कर्जा देना नही चाहता है क्योकि सरकारों की सियासत और बैंक की दलाली ने उसको ' कम्फर्ट जोन ' दिया है ! क्रेडिट कार्ड का कर्जा खेती की जगह अन्य खर्चो में खपता है !
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।