न्याय के लिए अनशन पर बैठा किसान : आज 27वां दिन


राजस्थान के चुरू जिले के सादुलपुर तहसील के गाँव लम्बोर का एक किसान चंद्रपाल ने करीब छः माह पहले फसल के लिए कर्जा लिया और कर्जे की राशि किसी चोर ने उड़ा ली। गरीब किसान एक प्रकार से बर्बाद सा हो गया और उसके द्वारा पुलिस थाने में मामला दर्ज करवाए जाने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। न्याय पाने के लिए उक्त किसान ने राजगढ़ पुलिस थाने के सामने धरना दे रखा है, जिसे आज पूरे 27 दिन हो गए। अब तक शासन-प्रशासन ने पीड़ित किसान की और ध्यान तक नहीं दिया है। पेश है सादुलपुर से श्याम जैन की टिप्पणी;

राजगढ़ सादुलपुर में कैसे हो आम जन को पुलिस पर विश्वास और कैसे भय पैदा हो अपराधियों में, जब किसी पिड़ित की सुनवाई करना तो दूर की बात, उसकी और ध्यान देने की फुर्सत भी अधिकारियों का नहीं हैं। मामला है राजगढ़ थाने के सामने बैठे एक गरीब एवं पिड़ित काश्तकार चन्दपाल का। तहसील के गांव लम्बोर के किसान ने करीब छः माह पूर्व फसल के लिए कर्जा लिया और कर्जे की राशि किसी चोर ने उड़ा ली। गरीब किसान एक प्रकार से बर्बाद सा हो गया और उसके द्वारा पुलिस थाने में मामला दर्ज करवाए जाने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। न्याय पाने के लिए उक्त किसान ने राजगढ़ पुलिस थाने के सामने धरना दे रखा है, जिसे आज पूरे 26 दिन हो गए।

आज पुलिस महकमें के ए.डी.जी. तथा चूरू के पुलिस एस.पी. के आगमन पर उक्त किसान को ही नहीं, लोगों को भी यह आशा थी कि कम से कम पुलिस उच्चाधिकारी मिलेंगे तो अवश्य। मगर न किसी ने बेचारे गरीब किसान की सुघ ली और न ही किसी ने भी इस मामले को उन तक पहूंचाने का प्रयास किया। जब यह हालात यहां के हैं और पुलिस के उच्च स्तर के अधिकारियों का, तो फिर न्याय की आशा/अपेक्षा क्या .......... ?
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।