अंबानी को 1072 करोड़ और किसान के मृत परिवार को 6775 रुपये

गुजरात में फसल खराब होने की वजह से किसान आत्महत्या कर रहे है इस बात का हमेशा से मना करती आ रही गुजरात सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में फसल खराब होने के कारण आत्महत्या करने वाले किशान को फसल खराबी की बीमा राशी का भुगतान किया होने का स्वीकार किया है.( ये रासी उसे ज़िंदा होने वक्त नहीं दी गई)

गोरतलब है की जामनगर की रिलायंस इंडस्ट्रीज का 1 हजार 72 करोड़ का टेक्ष गुजरात सरकार ने माफ़ किया साथ ही गुजरात सरकार ने उस किशान की विधवा पत्नी को “विधवा सहाय” देने से भी इनकार किया.

हमेसा से गुजरात सरकार कहती आई है की यहाँ फसल बर्बादी की वजह से किशान आत्महत्या नहीं कर रहे पर सुप्रीम कोर्ट में मार्च 2015 में शपथ-पत्र दाखिल करके कहा गया की 6775 रुपये बीमा की राशि अनिरुद्ध सिह जाडेजा को दी गई है. और सरकार इसे किशानो को दी गई आर्थिक मदद में गिना रही है.(ये बीमा की रासी दी गई है ये मदद है ?)

”किशानो का हित हमारे दिल में रहा है” का दवा करने वाली गुजरात सरकार मृतक अनिरुद्ध सिह की विधवा पत्नी को सरकार के द्वारा चल रही विधवा योजना देने से भी मना किया.
(साभार : gujjupost.com)
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।