छत्तीसगढ़ में प्राकृतिक संसाधनों की लूट के लिए कार्पोरेटपरस्त संशोधन : माकपा

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने खदानों की स्टाम्प ड्यूटी में अध्यादेश के जरिये संशोधन करके बाल्को, हिंडाल्को तथा मोनेट को कोल ब्लॉक आबंटन में हजारों करोड़ रुपयों का अप्रत्यक्ष लाभ पहुंचाने की तीखी निंदा करते हुए आरोप लगाया है कि भाजपा राज प्रदेश की प्राकृतिक संसाधनों की लूट में कार्पोरेट घरानों के लिए रास्ता सुगम कर रहा है. यह कारपोरेटों की सीधी दलाली के सिवा और कुछ नहीं है.

19 अक्टूबर को जारी एक बयान में माकपा के छत्तीसगढ़ राज्य सचिव संजय पराते ने कहा है कि कृषि जमीन के गैर-कृषि उपयोग के लिए छूट देना, निजी उद्योगों के लिए किसानों की जबरन भूमि अधिग्रहित करना और कार्पोरेट घरानों को करों में ' अनैतिक ' रूप से छूट देना भाजपा के कार्पोरेटपरस्त रूख का ही सबूत है. प्रदेश को पूंजीपतियों के हाथों बेचने की भाजपा की साजिश के खिलाफ माकपा जनमत को लामबंद करेगी.

राज्य सचिव,
संजय पराते
माकपा, छ.ग.
(मो.) 094242-31650
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।