भारत में ऊर्जा परिद्रश्य एवं बिजली परियोजनाएं पर विमर्श; 4-5 नवम्बर 2015 जबलपुर


आज भारत को भावी सुपर पॉवर कह कर परिभाषित किया जा रहा है इसके साथ ही ऊर्जा की आवश्यकता भी अभूतपूर्व स्तर पर बढ़ रही है,भारत विशव का छटवां सबसे बड़ा ऊर्जा का उपभोक्ता है जो की विश्व की कुल ऊर्जा का 3.4 फीसदी खर्च करता है, सितम्बर 2015 में भारत की स्थापित उत्पादन क्षमता 278733 मेगा वाट थी, जबकि प्रति व्यक्ति बिजली खपत 2011-12 में 883 किलो वाट प्रतिवर्ष था, योजना आयोग का पूर्वानुमान था की 2032 तक यह मांग 3 लाख मेगावाट(मांग) हो जाएगी

भारत में स्थापित ऊर्जा के अंतर्गत 70 प्रतिशत ताप बिजली संयंत्रों से, 15 प्रतिशत पन बिजली सयंत्रों से 2 प्रतिशत परमाणु बिजली संयंत्रों से तथा 13प्रतिशत नाविन्य ऊर्जा से उत्पादित होता है, 

जबकि केंद्रीय बिजली प्राधिकरण के आंकड़े आनुसार मई 2015 में कुल बिजली उत्पादन क्षमता 268603 मेगा वाट थी एवं उसी माह 23 मई 2015 को अधिकतम मांग 134892 मेगावाट ही थी, अर्थात 133711 मेगावाट सरप्लस बिजली थी जिसके कारण 57 थर्मल पॉवर यूनिट मांग नहीं होने के चलते रिज़र्व शट डाउन का सामना कर रहे थे, शटडाउन का सामना कर रही इकाइयों की कुल उत्पादन क्षमता 10 हजार मेगावाट से ऊपर है,

मध्य प्रदेश स्तर पर देखा जाये तो अक्टूबर 2015 में 11 मेगावाट बिजली उत्पादन करने में सक्षम है जबकि बिजली की मांग 8500 से 9000 मेगावाट ही है, ऐसे में सरप्लस बिजली का उपयोग नहीं हो पा रहा है, इसके आलावा निजी पॉवर हाउस से हुए करार के बाद कंपनी को भी बेवजह राशि का भुगतान करना पड़ रहा है, दूसरी और आज़ादी के 6 दशक बाद और आर्थिक सुधारों के शुरू होने के 2 दशक बाद भी एक तिहाई गरीबों को बिजली नहीं मिल पा रही है, यह सही है की पिछले एक दशक में बिजली उत्पादन 60 प्रतिशत बढ़ा है, मगर इसके बदोलत मात्र 10 प्रतिशत परिवारों को ही बिजली नसीब हुई है,
उपरोक्त सभी मुद्दों पर चर्चा करेने हेतु दो  दिवसीय बैठक दिनांक 4-5 नवम्बर 2015 को प्रातः10 बजे से स्नेह सदन, आर टीओ ऑफिस के पास, सिविल लाइन, जबलपुर में आयोजित है,

उक्त विमर्श में विषय विशेज्ञ के रूप में ज्ञान-विज्ञानं जत्था से डॉ सोम्या दत्ता, बैंक इनफार्मेशन सेंटर से राजेश कुमार एवं मंथन अध्ययन केंद्र से रहमत भाई अपने विचार साझा करते हुए वैकल्पिक ऊर्जा के स्त्रोतों एवं विकास पर साथियों को संबोधित करेंगे.

आप सभी साथी सादर आमंत्रित है, कृपया आप अपने आगमन की पूर्व  सुचना देने का कष्ट करें ताकि भोजन एवं आवास की व्यवस्था सुनिश्चत सुनिशिचित की जा सके
अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें-
राज कुमार सिन्हा (9424385139)
राहुल श्रीवास्तव (9424914706)
विजय कुमार (9981773205)
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।