दिलीप बिल्डकॉन के खिलाफ आदिवासियों का प्रदर्शन

भोपाल। सीएम शिवराज सिंह चौहान की कृपापात्र कंपनी दिलीप बिल्डकॉन इन दिनों ग्वालियर-देवास फोरलेन सड़क बना रही है। शिवपुरी के आदिवासियों ने दिलीप बिल्डकॉन के खिलाफ नग्न प्रदर्शन किया एवं शिवपुरी में उनके खेतों से मुरम भरने आए डंपरों को वापस भागने पर मजबूर कर दिया।

दिलीप बिल्डकॉन सड़क निर्माण के दौरान शिवपुरी विकासखंड के एक गांव करई कैरऊ निवासी आदिवासियों को पट्टे पर मिले खेतों में अवैध उत्खनन कर रही है। आज करीब दर्जन भर डंपर मुरम उठाने के लिए आए तो नग्न आदिवासी एकजुट हो गए और जमकर प्रदर्शन किया। आदिवासियों ने डंपरों को घेर लिया। बाद में आसपास के 2 थानों की पुलिस मौके पर पहुंची और डंपरों को मुक्त कराया जा सका।

कंपनी ने स्टांपपेपर पर लेंडयूज चेंज कर दिया
सरकारी दस्तावेजों में हर जमीन के टुकड़े का उपयोग दर्ज होता है। यह कुछ इस प्रकार से होता है। वनभूमि, कृषि भूमि, खदान एवं रिहायशी भूमि। रिकार्ड में जो भूमि जिस काम के लिए दर्ज है, उस पर वही काम किया जा सकता है। शेष अवैध और दण्डनीय है। डायवर्सन या लेंडयूज चेंज कराना कितनी टेडी खीर है यह बताने की जरूरत नहीं लेकिन कंपनी ने 500 रुपए के स्टांप पेपर पर लेंडयूज ही चेंज कर डाला। आदिवासियों को पट्टे पर मिले खेतों को खदान बना डाला और उत्खनन भी शुरू कर दिया।

आदिवासियों ने बनाया नया मोर्चा
शिवपुरी के सहरिया जनजाति के आदिवासियों ने हर रोज होने वाले अत्याचारों से मुकाबला करने के लिए अपना एक नया मोर्चा बना लिया है। इसका नाम रखा गया है सहरिया क्रांति। शिवपुरी के एक बहुचर्चित पत्रकार संजय बेचैन 'सहरिया क्रांति' का समन्वय देखते हैं। आज का नग्न आंदोलन भी 'सहरिया क्रांति' के बेनर तले ही हुआ।
साभार : भोपाल समाचार
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।