भूमि अधिग्रहण के खिलाफ़ किसान संघर्ष : पांच वर्ष पूर्ण होने पर विरोध सभा


28 अगस्त 2015 को नवलगढ़ क्षेत्र के गोठड़ा गाँव में भूमि अधिग्रहण के खिलाफ किसान सभा हुई जिसमें राजस्थान के अलावा अन्य राज्यों से किसान-मजदूर संगठनों एवं नागरिक अधिकार संगठनों के प्रतिनिधियों ने सक्रिय भागीदारी की। सम्मेलन के दौरान सीमेंट फैक्ट्रियों के लिए नवलगढ़ के 18 गांवों में जबरन भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन पर विस्तृत चर्चा की गईं इस चर्चा में गोठडा, बसावा, देवगांव,खिरोड़ख भोजनगर, तुर्काणी जोहड़ी, बेरी आदि प्रभावित गांवों के किसान प्रतिनिधियों ने भाग लिया

झुंझुनूं जिले के नवलगढ़ ब्लोक में  भूमि अधिग्रहण किसान विरोधी संघर्ष समिति के आंदोलन को पांच वर्ष पूर्ण होने पर गोठड़ा गांव में 28 अगस्त को बड़ी किसान सभा हुई। मुख्य अतिथि स्वराज अभियान के जय किसान आंदोलन के राष्ट्रीय संयोजक प्रो. योगेंद्र यादव ने कहा कि भूमि अधिग्रहण के विरोध में यह संघर्ष इस देश के किसान का संघर्ष है।

सरकार किसान के पैरों तले बची हुई जमीन भी छीनने में लगी है। आज किसान के सिर पर पगड़ी नहीं है और वह कर्ज के बोझ के नीचे दबता जा रहा है। सरकार किसान से जबरदस्ती पूर्वजों की जमीन को छीन रही है। यादव ने कहा कि यह संघर्ष देश की व्यवस्था के खिलाफ है। अगर किसान अपने मान-सम्मान के लिए सिर ऊंचा उठा ले तो सरकार हिल जाएगी।

डॉ. सुनिल ने कहा कि किसानों की एकता पूंजीपतियों के घुटने टिका देगी, मगर किसानों में एकता होनी बहुत जरूरी है। कांग्रेस भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि किसानों में एकता नहीं होगी तो आने वाले समय में पानी की एक-एक बूंद के लिए तरसेगा।

पूर्व मंत्री विज्ञान मोदी रिटायर्ड मेजर डॉ. सुरेंद्र पूनिया ने कहा कि किसान संगठित होकर इस आंदोलन को मजबूत बनाएं। कॉमरेड अमराराम ने भी किसानों को एकजुटता बनाएं रखने को कहा।
सभा को कविता श्रीवास्तव, संजय बासोतिया, पूर्णसिंह आजाद, अरुणप्रताप सिंह, प्रेम कंवर, कैलाश मीणा, राघवेंद्र सिंह, रामशीश गुप्ता, प्रतापसिंह राठौड़, डॉ. दुल्लम सिंह, सवाई सिंह, युवा नेता यशववर्धन सिंह, हरकेश बुगालिया, मीनूसूर, अनिल चौधरी, भंवरसिंह महला, जयराम सिंह डाबला, जगदीश प्रसाद फेनन, हनुमान सिंह परसवाल, ओमप्रकाश झारोड़ा आदि ने भी संबोधित किया। सभा का संचालन भूमि अधिग्रहण किसान विरोधी संघर्ष समिति अध्यक्ष कैप्टन दीपसिंह शेखावत ने किया। जय किसान आंदोलन के झुंझुनूं जिला संयोजक कैलाश यादव ने आभार व्यक्त किया।

यादव को बांधा रक्षा सूत्र : सभा में आई अनिता ने मंच पर पहुंचकर प्रो. योगेंद्र यादव को रक्षा सूत्र बांधकर जमीन बचाने का संकल्प लिया। अनिता ने अपने 10 साल के बेटे को भी इस आंदोलन के लिए हर समय तैयार रखने का वादा किया।

ये रहे मौजूद : सभा में सुमेर सिंह, रामेश्वरलाल, सतीशकुमार भींचर, नवरंगलाल दूत, श्रीराम दूत, श्रीचंद डूडी, जगदीशप्रसाद भींचर, कुशलाराम फांडण, धर्मपाल गुर्जर, बजरंगलाल जांगिड़, भागरथमल झाझड़िया, खामाणाराम संडा, महावीर डोटासरा, जगदीशप्रसाद मीणा, बालूराम आदि सहित बड़ी संख्या में महिला-पुरुष मौजूद थे।
साभार: भास्कर

Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।