प्रफुल जी की याद में......................


बड़े शौक से सुन रहा था जमाना
                         तुम्हीं सो गए दास्तां कहते-कहते................
                                                           प्रफुल जी को याद करते हुए 



पत्रकारिता के क्षेत्र में अपनी बेबाक तथा जनपक्षधर लेखन के लिए अपनी एक अलग पहचान रखने वाले पत्रकार प्रफुल बिदवई जी हमारे बीच नहीं रहे लेकिन उनकी यादें अभी भी मौजूद हैं। उन्हीं यादों को आपस में साझा करने के लिए प्रफुल जी की याद में 8 जुलाई को शाम 6 बजे से 8 बजे तक एक स्मृति समारोह आयोजित किया जा रहा है । उम्मीद है कि आप सब उसमें भागीदारी करेंगे।


  • संस्मरण
  • श्रद्धांजलि
  • संगीत

                                                                     
समय व दिनांक - शाम 6 बजे से 8 बजे तक, 8 जुलाई 2015
 स्थान - मल्टीपर्पज़ हॉल, कमला देवी ब्लॉक,
            इंडिया इंटरनेशनल सेंटर, 40, मैक्स मूलर मार्ग,
             नई दिल्ली-110003



Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।