आवास हक सत्याग्रह : सत्याग्रहियों का बारिश में भी संघर्ष जारी !

मुंबई | 7 जून 2015: अपने घर के आवास के हक को लेकर 11 सालों से संघर्ष कर रहे मंडाला के उजड़े हुए लोगों के सत्याग्रह का आज 13वा दिन था | वहीँ साकली उपोषण को आगे बढ़ाते हुए आज 10 लोग उपोषण पर बेठे | देर रात तेज़ बारिश होने के बावजूद भी सत्याग्रही अपनी जगह पर डटे रहें | सरकार की ओर से बात-चीत की कोई पहले नहीं होने पर आज सत्याग्रहियों से मुख्यमंत्री को पत्र लिखा व उनसे मिलने का समय माँगा |
सत्याग्रह में विश्वास रखने वाले समर्थानकों का तांता लगा रहता है | इसी क्रम में आज समर्थन देते हुए श्री अनिल हेब्बार ने खाने की सामग्री दान दी व संघर्ष में साथी बने रहने का वादा किया | अपनी रोज़ी-रोटी छोड़े 2-3000 लोग लगातार सत्याग्रह पर बेठे रहते है व सत्याग्रह को बल देते है |

ज्ञात हो कि 26 मई को हज़ारों मंडला की बस्ती (जो की मुंबई क मानखुर्द क्षेत्र में उपस्थित है) के उजड़े हुए लोगो ने अपने आवास के हक को लेकर वरिष्ठ समाज सेविका सुश्री मेधा पाटकर के नेतृत्व में घर बचाओ-घर बनाओ आंदोलन द्वारा घर हक सत्याग्रह शुरू किया था | मंडाला की बस्ती 2004/5 की डेमोलिशन ड्राइव म तोड़ी गयी थी बिना किसी पुनर्वास के प्लान के | इस बस्ती में 5000 परिवार निवास करते थे | मंडला के उजड़े हुए लोगों ने दो बार घर बनाने की कोशिश की पर हाई कोर्ट का आर्डर होने के बाद भी बस्ती तोड़ दी गयी | सारे उजड़े हुए लोगों ने घर बचाओ-घर बनाओ आंदोलन के साथ अपने घर के हक के लिए संघर्ष करा |

केंद्र व राज्य सरकार द्वारा पहले BSUP के तहत और फिर राजीव आवास योजना के तहत बसाने का आश्वासन मिला | परन्तु सारे आश्वासन कागजों पर ही रहे आज तक | इस 11 साल के अन्याय को अब और नहीं झेलने की ठानते हुए मंडाला के उजड़े हुए लोगों ने ठाना है की वह अब अपनी ज़मीन पर रह कर ही संघर्ष करेंगे व यही पर अपना घर बसायेंगे |
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।