सत्याग्रहियों पर पुलिसिया दमन के विरोध में बिहार भवन पर प्रदर्शन

15 अप्रैल 2015 को दिल्ली समर्थक समूह द्वारा दिल्ली के बिहार भवन पर,  9 अप्रैल को बिहार विधानसभा के सामने सत्याग्रहियों पर हुए  पुलिसिया दमन के विरोध में प्रदर्शन का किया गया. सनद रहे  कि अप्रैल को बिहार नव-निर्माण अभियान के आव्हान पर लगभग 400 महिला-पुरुषभूमिहीन दलित और पिछड़े समुदायों के लोग अपने ज़मीन के अधिकारों को लेकर जेल भरो के पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत विधानसभा भवन एकत्रित हुए.  ज्ञात हो कि पिछले साल भी इन्हीं मांगों को लेकर ये लोग मुख्यमंत्री आवास भी गए थे, जहाँ इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. इस बार भी उनका  अहिंसात्मकशांतिमय और विनम्र सत्याग्रह था.

लेकिन पिछली  बार की तरह इस बार भी  प्रशासन और सरकार ने इस शांतिमय सत्याग्रह पर बल प्रयोग किया. महिलाओं को पुरुष पुलिस बल ने मारा -पीटाउनके साथ बदसलूकी की और एक षड्यंत्र के तहत इन 400 सत्याग्रहियों में से केवल पांच प्रमुख प्रतिनिधियों को जेल में भेजकर उनके खिलाफ गैर-जमानती मुकदमे दर्ज किये.. 

 दिल्ली समर्थक समूह एवं एनएपीएम सरकार के इस क्रूर कदम की निंदा करते हैं और यह मांग करते हैं कि,अप्रैल 2015 को प्रदर्शन के दौरान पटना में बिहार नव नव निर्माण अभियान के गिरफ्तार साथी श्री अशोक प्रियदर्शीअशोक मानववर्षा बेलामालती देवी एवं चनवां देवी  को रिहा करते हुए उनके ऊपर जो भी राज्य सरकार द्वारा जो गैर जमानती  केस दर्ज किये गए है उन्हें  सरकार वापस ले.

बिहार नव निर्माण अभियान के अहिंसात्मकशांतिमय और विनम्र सत्याग्रह पर प्रशासन और पुलिस द्वारा बल प्रयोग किया गया और महिलाओं को पुरुष पुलिस बल ने मारा -पीटाउनके साथ बदसलूकी भी की | हम माँग करते है की इसके लिए जिम्मेदार प्रशासन और पुलिस के लोगों को चिन्हित कर उचित कार्यवाही की जाये 

बिहार नव निर्माण अभियान के साथियों की माँगे जनता के हित में है एवं उचित है इसलिये बिहार सरकार उनकी माँगो को जल्दी से जल्दी पूरा करे 
1. वन अधिकार कानून 2006 को लागू कर वंचित एक लाख परिवारों को अधिकार दे | 
2. पर्चाधारीयो को उनकी जमीन पर कब्जा दिलाये | 
3. कोशी के तीन लाख विस्थापितो के पुनर्वास की गारंटी करे | 
4. पुनरवितरण नियोग भूमि में महिलाओं को बराबरी का अधिकार दे | 
5. नदी के कटाव और अन्य कारणों से विस्थापित परिवारों को भूमि अधिकार दे | 
6. बेघर परिवारों को वासिगत पर्चा दे |. 
7. गरीबो के हक-हुकूकों से खिलवाड़ करना बंद किया जाये.

आज के विरोध प्रदर्शन में  लोग नारा लगाते हुए बिहार भवन के मुख्य गेट पर पहुंचे ही थे कि  पुलिस ने गेट पर ही सभी को रोक लिया.  फिर वही लोगनारों  के माध्यम से सरकार का विरोध कर रहे थे . संजीवराजेशमहेंद्रशाशि भूषण पंडितसहित अन्य साथियों ने अपने बात को रखते हुए सरकार की निंदा किये और माँग की, कि  सरकार, सत्याग्रहियों के साथ सही रुख अख्तियार करे |

एक प्रतिनिधि मंडल बिहार भवन के भीतर संयुक्त श्रम अधिकारी श्री  कुमार दिग्विजय से भी मिला और उनके समक्ष अपनी  मांगो को रखा. श्री दिग्विजय कुमार ने कहा है कि आपकी मांगो को हम सरकार तक पहुंचाएंगे और उचित कदम उठाये जायेंगे.
तस्वीर : महिपाल बिष्ट

Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।