ओम्कारेश्वर बांध : जल सत्याग्रह 8वें दिन जारी

घोघलगाँव में जल सत्याग्रह आज 8वें दिन भी जोर शोर से जारी रहा। श्री आलोक अग्रवाल के साथ 20 सत्याग्रही लगातार पानी में सत्याग्रह कर रहे हैं। सत्याग्रहियों के पैर गल रहे हैं, लगातार खुजली हो रही है और 3 सत्याग्रहियों को बुखार रहा। सत्याग्रह पर अनेक लोग लगातार पहुँच कर अपना समर्थन व्यक्त कर रहे हैं।

कैसे हुआ कानून का उल्लंघन :
ओम्कारेश्वर बांध को दी गयी क़ानूनी मंजूरियों के अनुसार बांध निर्माण के 6 माह पहले पुनर्वास पूरा होना जरुरी है। बांध का निर्माण तो पूरा कर लिया गया परन्तु विस्थापितों का पुनर्वास नही किया गया। नर्मदा आन्दोलन की याचिका पर 2008 में उच्च न्यायालय और 2011 में सर्वोच्च न्यायालय ने अपने आदेश में कहा क़ि पुनर्वास नहीं हुआ है। इसके बाद भी बिना पुनर्वास की डूब लाने पर सन 2012 में 17 दिन का जल सत्याग्रह हुआ जिसके बाद सरकार ने 225 करोड़ का पैकेज दिया, परन्तु इस पैकेज को भी पुनर्वास नीति के अनुरूप नहीं बनाने से सैकड़ों प्रभावितों को उनके अधिकार नहीं मिल सके।

जरुरी है कि सरकार विस्थापितों के क़ानूनी और संवैधानिक अधिकारों को समझते हुए इस मानवीय समस्या का तत्काल समाधान निकाले। सरकार अपनी जनता से नहीं लड़ सकती।

आज आम आदमी पार्टी इंदौर ज़ोन संयोजक युवराज सिंह, झाबुआ प्रभारी श्री आर के माहोर, इंदौर विधान सभा प्रभारी वीरेन्द्र, राऊ विधानसभा प्रभारी गुरमीत सिंह, चित्रकूट विधान सभा प्रभारी राज बहुरंन द्वेदी, भिंड से योगेन्द्र कुशवाहा ने जल सत्याग्रह में भाग लिया।

Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।