किसान सत्याग्रह : भू-अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ़

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में किसान विरोधी भू-अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ़ सत्याग्रह की शुरुआत की जा चुकी है इस क्रम में 13 जनवरी मंगलवार को दिन 11 बजे शास्त्री घाट , वरुणापुल पर एक सभा और उसके बाद वहां से जिलामुख्यालय तक एक सत्याग्रह मार्च किया गया. एक ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति को प्रेषित किया गया जिसमें इस अध्यादेश को तत्काल निरस्त करने की मांग की गयी है.

सत्याग्रह के अगले चरण में हस्ताक्षर अभियान जारी रखते हुए एक दिवसीय कार्यशाला 18 जनवरी को 11 बजे से 5 बजे तक सर्व सेवा संघ परिसर में आयोजित की गई है.

कार्पोरेट जगत के दबाव में आनन फानन में लाये गये भूमि अधिग्रहण अध्यादेश से जल, जंगल, जमीन और प्राकृतिक संसाधनों पर पूंजीपतियों के बढ़ते कब्जे का पहले से उलझा मामला और जटिल हो जाएगा .केवल अधिक दर से मुआवजा मिल जाने से किसानों-आदिवासियों का कल्याण नहीं होने वाला है. अधिग्रहण के चलते छोटी जोत के अधिकांश किसान न घर के रह जाते हैं न घाट के, मुआवजे की मिली राशि प्रायः फिजूलखर्ची और विलासिता में जल्दी ही खत्म हो जाती है, बहुत कम लोग मुआवजे का समझदारी उपयोग कर पाते हैं.... वहीँ गांव की जमीन पर निर्भर रहने वाले भूमिहीन मजदूर, दलित एवं कारीगर जातियों को अंग्रेजो द्वारा बनाये1894 के भूमि अधिग्रहण कानून के समय से ही कोई मुआवजा राशि, आवासीय प्लाॅट या नौकरी नहीं मिलती है.. ऐसे में यह अध्यादेश भी कदापि किसानो के हित में नही है.

जन आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय (NAPM), साझा संस्कृति मंच वाराणसी आदि अनेक जन संगठन इस अध्यादेश को ख़ारिज करते हैं और इसे किसानो के हित में तत्काल वापस लिए जाने की मांग करते हैं.

इस क्रम में 13 जनवरी मंगलवार को दिन 11 बजे शास्त्री घाट , वरुणापुल पर एक सभा और उसके बाद वहां से जिलामुख्यालय तक एक सत्याग्रह मार्च किया गया .. एक ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति को प्रेषित किया गया जिसमे इस अध्यादेश को तत्काल निरस्त करने की मांग की गयी है.

सत्याग्रह के अगले चरण में हस्ताक्षर अभियान जारी रखते हुए एक दिवसीय कार्यशाला 18 जनवरी को 11 बजे से 5 बजे तक सर्व सेवा संघ परिसर में आयोजित किया गया है

आयोजक :
जन आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय (NAPM) उ प्र
साझा संस्कृति मंच वाराणसी

आप साग्रह आमंत्रित हैं.

संपर्क फोन :
प्रो सोमनाथ त्रिपाठी: 9415222940
नन्दलाल मास्टर : 9415300520
आशोक भारत: 8004438413
जागृति राही: 9450015899
वल्लभ: 9415256848
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।