17वां शहीद किसान स्मृति सम्मेलन मुलताई : 12 जनवरी 2015

आर्थिक सहयोग के लिए अपील

प्रिय साथी,
जिंदाबाद!
किसान संघर्ष समिति द्वारा हर वर्ष की तरह 12 जनवरी 2015 को 17वां शहीद किसान स्मृति सम्मेलन एवं 225वीं किसान महापंचायत का आयोजन मुलताई, जिला बैतूल, म.प्र. में किया जा रहा है।
महापंचायत में हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी मुलताई घोषणा पत्र 2015 जारी किया जायेगा तथा शहीद किसानो की स्मृति में 24 प्रथम आई छात्राओं को पुरस्क्रत किया जाएगा तथा शहीदो की स्मृति में रक्तदान भी किया जाएगा।
किसान संघर्ष समिति द्वारा स्थापना दिवस 25 दिसंबर से 11 जनवरी के बीच हर वर्ष की तरह किसान अधिकार यात्रा भी निकाली जाएगी तथा विभिन्न ग्रामों मे शहीदो की स्मृति मे सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाएगा।
उक्त कार्यक्रमों में लगभग 1 लाख 70 हजार रूपए का खर्च अनुमानित है। गत वर्ष हाल पर 25 हजार रूपए, टेन्ट माईक पर 20 हजार रूपए, पर्चा पोस्टर प्रस्ताव एवं बेनरों पर 20 हजार रूपए, किसान अधिकार यात्रा पर 25 हजार रूपए, भोजन व्यवस्था 60 हजार रूपए, ठहरने की व्यवस्था हेतू 20 हजार रूपए खर्च हुआ था।
किसान संघर्ष समिति द्वारा भोजन की व्यवस्था हेतू अनाज इकठ्ठा किया जाता है तथा स्थानीय तौर पर चंदे से लगभग 20 हजार रूपए जुटाया जाता है। बाकी राशि गत 17 वर्षो से विभिन्न संगठनों एवं साथियो के द्वारा जुटाई जाती है। इस वर्ष साप्ताहिक “जनयोद्धा” द्वारा विशेषांक प्रकाशित किया जा रहा है। हमारी कोशिश है कि विज्ञापन के माध्यम से कुछ राशि जुटाई जाए।
आपसे अनुरोध है कि उक्त कार्यक्रमों के लिए आर्थिक सहयोग प्रदान करने का कष्ट करें। आर्थिक सहयोग हेतू राशि “किसान संघर्ष समिति” के भारतीय स्टेट बैंक के खाता क्रं. 32059516258, ब्रांच कोड – 1206, नागपुर रोड, मुलताई 460661, IFSC - SBIN0001206, पर चेक के माध्यम से या बैंक ट्रांसफर से भिजवाने का कष्ट करें।
अनुरोधकर्ता
डा. सुनीलम
कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक
मोबा.नं. 09425109770
(sunilam_swp@yahoo.com)
किसान संघर्ष समिति द्वारा हर वर्ष की तरह 12 जनवरी 2015 को 17वां शहीद किसान स्मृति सम्मेलन का आयोजन मुलताई, जिला बैतूल, म.प्र. में किया जा रहा है। आप जानते ही हैं कि 12 जनवरी 1998 को कांग्रेस की दिग्विजय सिंह सरकार द्वारा षडयंत्र पूर्वक पुलिस गोलीचालन कर 24 निहत्थे किसानों को मौत के घाट उतार दिया गया था। गोली चालन में 150 किसान घायल हुये थे। गोलीचालन के बाद सरकार ने 250 किसानो पर 67 फर्जी मुकदमें दर्ज किये थे। जिनमें से 3 मुकदमों में डा. सुनीलम् को 52 वर्ष की सजा तथा अन्य तीन साथियो को आजीवन कारावास की सजा दी गई है। 24 फर्जी मुकदमें न्यायालय में लंबित है।

किसान संघर्ष समिति द्वारा हर महीने की 12 तारीख को किसान महापंचायत का आयोजन किया जाता है। अब तक 223 किसान महापंचायते आयोजित की जा चुकी है। 225वीं किसान महापंचायत में इस वर्ष भी मुलताई घोषणा पत्र 2015 जारी किया जायेगा तथा शहीद किसानो की स्मृति में 24 प्रथम आई छात्राओं को पुरस्क्रत किया जाएगा। शहीदो की स्मृति में रक्तदान भी किया जाता है।

किसान संघर्ष समिति द्वारा स्थापना दिवस 25 दिसंबर से 11 जनवरी के बीच हर वर्ष की तरह किसान अधिकार यात्रा भी निकाली जाएगी तथा विभिन्न ग्रामों मे शहीदो की स्मृति मे सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाएगा।

शहीद किसानो को श्रद्धांजली देने के 12 जनवरी 2015 के कार्यक्रम में आप सादर आमंत्रित है। आगमन की सूचना जिलाध्यक्ष जगदीश दौड़के को 09179124860, 09755474549 पर देने का कष्ट करें। मुलताई की दुरी नागपुर से 125 किमी, बैतूल से 50 किमी तथा भोपाल से 250 किमी है। सर्दी के समय ट्रेन देरी से चलती है इस कारण अनुरोध है कि 11 जनवरी को मुलताई पहुचने का कार्यक्रम बनाए।

आमंत्रण कर्ता
प्रदेश अध्यक्ष टंटी चौधरी, कार्यकारी अध्यक्ष डा. सुनीलम, जिलाध्यक्ष जगदीश दौड़के, लक्ष्मण बोरबन, कृष्णा ठाकरे, सुमनबाई कसारे, मोतीराम चैहान, प्रेमचंद मालवीय, साहेबलाल महाजन, शिवलु पटेल, मारोती कौशिक, रमेश सातपुते, प्रयाग सोलंकी, सुरेश सातपुते, लल्लु पवार, संतोष बारस्कर, हरिओम विश्वकर्मा, रघ्घु कोडले, हेमराज देशमुख, नानक देशमुख, होरीलाल रबडे, मानिक खाडे, भुरेन्द्र माकोडे, इन्द्रपालसिंह, भागवत परिहार, अशोक बरोदे, निरंकार साहू, सुखदेव मोहबे, कृपालसिंह सिसोदिया, लक्ष्मण परिहार, चैतराम पवांर, शिवशंकर साहू, गुडडू सूर्यवंशी, चन्द्रकला बाई, कलाबाई, ताराबाई, बुलंकीबाई, नान्हीबाई, दुर्गाबाई, कैलाश डोंगरदिये, लक्ष्मण बिन्झाडे, कय्युम भाई, सवाईराव पंडाग्रे, श्रीनिवास सोनी, छोटू बचले, मदन विजयकर, बलराम मालवीय, भीमसेन पवांर, कुलदीप पहाडे, देवीराम चैरे, निरापुरे मासाब, रमेश गावंडे, परसुराम सोनी, प्रहलाद अग्रवाल, जितेन्द्र सिंह, गुणवंतसिंह, मोटू गढेकर, रामदयाल चैरे, छित्तु चैरे, सुकदेव धाकड, डखरू महाजन, कलावतीबाई गढेकर, भूरा महाजन, राधिका नरवरे, हरिराम पवांर, गीता हारोडे, ढेपलू पवांर, केवलबाई गढेकर, रमलीबाई, बिनोदी महाजन, नत्थू बुआडे, लखन हारोडे, इन्द्रपाल नरवरे, शिवदयाल बनखेडे, श्यामा इंगले, शेषराव सूर्यवंशी, रघुनाथ विश्वकर्मा, नेहरू गुलबाके, अर्जुन हारोडे, लखन हारोडे, करमचंन्द हारोडे।
मुलताई से भोपाल की ओर जाने वाली ट्रेन
ट्रेन नं.    गाड़ी का नाम                         समय            दिन
16031    अंडमान एक्सप्रेस (जम्मू)    04:50 सुबह    सोम,गुरु,शुक्र
16093    अंडमान एक्सप्रेस (लखनऊ)    04:50 सुबह    बुध, रवि
22112    नागपुर भुसावल दादा धाम     09:48 सुबह    सोम, गुरु, शनि
51829    नागपुर इटारसी पेसेंजर     11:03 सुबह    प्रतिदिन
12721    दक्षिण एक्सप्रेस             11:55 सुबह    प्रतिदिन
11203    नागपुर जयपुर एक्सप्रेस     02:10 दोपहर    गुरुवार
12409    गोंडवाना एक्सप्रेस (रायगढ़)    03:14 दोपहर    सोम,बुध,गुरु,शुक्र,शनि
12405    गोंडवाना एक्सप्रेस (भुसावल)    03:14 दोपहर    मंग, रवि
12914    त्रिशताब्दी (उज्जैन)    09:10 रात्रि    सोमवार
12924    त्रिशताब्दी (मक्सी)    09:10 रात्रि    बुधवार
51293    नागपुर आमला पेसेंजर 09:15 रात्रि    प्रतिदिन
18237    छतीसगढ़ एक्सप्रेस     12:22 रात्रि    प्रतिदिन
12807    समता एक्सप्रेस     12:47 रात्रि    सोम,बुध,गुरु,शुक्र,शनि

मुलताई से नागपुर की ओर जाने वाली ट्रेन
ट्रेन नं.    गाड़ी का नाम     समय     दिन
51294    नागपुर आमला पेसेंजर    04:54 सुबह    प्रतिदिन
12913    त्रिशताब्दी (उज्जैन)    05:47 सुबह    सोमवार
12923    त्रिशताब्दी (मक्सी)     05:47 सुबह    बुधवार
12410    गोंडवाना एक्सप्रेस (रायगढ़)     06:24 सुबह    मंग,बुध,गुरु,शुक्र,शनि
12406    गोंडवाना एक्सप्रेस (भुसावल)     06:24 सुबह    सोम,शनि
16032    अंडमान एक्सप्रेस (जम्मू)     08:05 सुबह    सोम,गुरु,रवि
16094    अंडमान एक्सप्रेस (लखनऊ)    08:05 सुबह    मंग,शुक्र
22111    नागपुर भुसावल दादा धाम     01:37 दोपहर    बुध,शुक्र,रवि
12722    दक्षिण एक्सप्रेस     02:59 दोपहर    प्रतिदिन
11204    नागपुर जयपुर एक्सप्रेस    04:16 दोपहर    शनिवार
51830    नागपुर इटारसी पेसेंजर     04:32 दोपहर    प्रतिदिन
12808    समता एक्सप्रेस     11:28 रात्रि    सोम,मंग,गुरु,शुक्र,शनि
18238    छतीसगढ़ एक्सप्रेस    12:26 रात्रि    प्रतिदिन



Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।