कारपोरेट लूट- पुलिसिया दमन विरोधी लोक संघर्ष यात्रा : संजय नामदेव फिर गिरफ्तार

लोक संघर्ष यात्रा जारी है.....आज सासन परियोजना से प्रभावित गावों में पहुचेगी यात्रा
पिछले तीन माह के घटनाक्रमों पर दिल्ली और मध्य प्रदेश पर एक साथ नज़र डालें तो यह साफ़ हो जाता है कि देश के सत्तावर्ग ने खुलकर कारपोरेट की ताकत के पक्ष में खड़े होने का फैसला कर लिया है. संविधान का लिहाज और बची-खुची आँख की शर्म भी धो डाली है. मध्य प्रदेश के सिंगरोली में रिलायंस कम्पनी के बिजली संयंत्र से प्रभावित गावों से गुजरने वाली यात्रा को पुलिसिया दमन के बल पर रोकने पर अमादा है प्रशासन. पेश है लोकविद्या आश्रम की यह रिपोर्ट;

मध्य प्रदेश में चल रहे जन संगठनो, कार्यकर्ताओं का निजी कंपनियों के इशारों पर पुलिसिया दमन रुकने का नाम नहीं ले रहा हैं। सिंगरौली में लोकविद्या जन आन्दोलन के संयोजकत्व में पिछले दिनों सिंगरौली जिले की साईकल यात्रा का निर्णय लिया गया था, जो की 26 दिसंबर से शुरू होने वाली थी। जबकि प्रशासन इस यात्रा को रोकने की सारी तरकीबें लगा कर हार चूका था, तो पुलिस ने ट्रेड युनियन नेता कामरेड संजय नामदेव को धारा 354 और 427 के अंतर्गत फर्जी मुक़दमे में फसा कर 25 दिसंबर की सुबह गिरफ्तार कर लिया. पिछले कई दिनों से इस यात्रा को रद्द कर देने का आग्रह करते हुए सी आई डी के एक व्यक्ति का फ़ोन आ रहा था जो की पूछने पर अपना नाम “पांडे” बताता था ।

ज्ञात हो की कामरेड संजय नामदेव को कंपनियों की मनमानी की खिलाफत करने और आन्दोलनात्मक गतिविधियों के कारण पिछले दिनों रा सु का में गिरफ्तार किया गया था, किन्तु 52 दिनों बाद पुलिस को, जन दबाव को देखते हुए, इन्हें रिहा किया गया था।

लोक संघर्ष यात्रा जारी है.....आज सासन परियोजना से प्रभावित गावों में पहुचेगी यात्रा 

लोक संघर्ष यात्रा की शुरुवात में पहले से तय कार्यक्रमानुसार सासन क्षेत्र में रिलायंस कम्पनी के बिजली संयंत्र से प्रभावित हर्र्वाह और सासन गाँव का भ्रमण किया गया, और बैठकें आयोजित की गयीं। मुलाकातों में स्थानीय जनता द्वारा अपनी तमाम समस्याओं की चर्चा की गयी, और यात्रा में शामिल लोगों ने उन तमाम बातों पर विस्तार से चर्चा की जिसके आधार पर एकता कायम की जा सकती है। अधिकाँश लोगों पर कम्पनी की दलाली करते हुए स्थानीय प्रशासन के द्वारा उत्पीडन की जो कार्यवाही की गयी थी उसका पूरा ब्यौरा हमारे साथी मंजू और गंगा प्रसाद ने नोट भी किया और उनकी विडिओ क्लिप भी बनायी है। आप सब के साथ यह सारे दस्तावेज यात्रा के पूरे होने के बाद हम साझा करेंगे। लोगों और थोड़ी संसाधनों की कमी के कारण यात्रा के सन्दर्भ में रोजाना होने वाली ब्रीफिंग में सभी दस्तावेज का सार्वजनीकरण हमारे लिए संभव नहीं है।
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।