दयामनी बारला: जेल से लिखे पत्र को सुनिये

आज रांची के (ए. के. राय ) सेशन कोर्ट में दयामनी बारला की जमानत अर्जी पर चोथी बार सुनवाई बेनतीजा रही. अगली सुनवाई 21 नवम्बर को होगी. 16 अक्टोबर से अबतक एकके बाद एक तीन फर्जी केसों में दयामनी जी को फंसाया गया है. साफ़ तौर पर यह उनको नगड़ी आंदोलन से अलग-थलग कर ज़मीन हथियाने की साजिश है.


यह विडियो सामाजिक कार्यकर्ता दयामनी बारला के जेल से लिखी चिठ्ठी पर आधारित है जो (गुज़री 16 अक्टूबर से न्यायिक हिरासत में रांची जेल में बंद हैं।) उन्होंने 6 नवम्बर 2012 को बिरसा मुंडा, केन्द्रिय काराग्रह, रांची (झारखंड) में लिखा था. इस पत्र में उन्होंने कोर्पोरेट्स की लूट की तीखी आलोचना करते हुए, सरकारों की कंपनीपरस्ती को कटघरे में खड़ा किया और साझा संघर्षों की ज़रूरत को सामने रखा।
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।