सुनीलम् की रिहाई के लिये देशभर में आंदोलन और मुहिम चलाई जायेगी

देश में लोकतंत्र, जल जंगल और ज़मीन तथा वंचित वर्गों की हिस्सेदारी और गरिमा के लिए वर्षों से संघर्षरत प्रख्यात समाजकर्मियों ने 26 अक्टूबर को भोपाल जेल में जाकर डा. सुनीलम् से मुलाकात कर एक साझा प्रेस विज्ञप्ति जारी की है, जिसे हम यहाँ प्रकाशित कर रहे हैं. 

भोपाल 26 अक्तूबर। इंसाफ (इंडियन सोशल एक्शन फोरम) के राष्ट्रीय महासचिव और पी.यू.सी.एल.(पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज) के राष्ट्रीय सचिव चितरंजन सिंह और शिक्षाविद अनिल चौधरी एवं नेशनल एलाइंस आफ पीपुल्स मूवमेंट (एन.ए.पी.एम) के संयोजक संदीप पाण्डे एवं पी.यू.सी.एल.(पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज) के प्रदेश संयोजक दीपक भट्ट ने सुनीलम के पक्ष में प्रेस वार्ता का आयोजन गाधी भवन में किया। इससे पहले इन साथियों ने भोपाल जेल में जाकर डा. सुनीलम् से मुलाकात की।
चितरंजन सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश में कारपोरेट घरानों, राज्य सरकार और अफसरशाही के दुरभिसंधि के चलते जनान्दोलनो पर भारी दमन और उत्पीड़न जारी है और इसका चर्मोत्कर्ष है किसान संघर्ष समिति के नेता पूर्व विधायक डॉ सुनीलम सहित दो किसानों को आजीवन कारावास की दी गयी सजा, जबकि 12 जनबरी 1998 को मुलताई में 24 किसान शहीद हुए और 150 को गोली लगी परन्तु इसके जिम्मेदार पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ एफ.आई.आर. तक नहीं लिखी गयी।

अनिल सिंह ने कहा कि मुलताई के गोली कांड के बाद से ही जिम्मेवार पुलिस अधिकरियों की गिरफ्तारी की मांग की जा रही है लेकिन सरकारों ने घोषणा के बाद भी पुलिस अधिकरियों पर कार्यवाही नही की गई। उन्होने कहा कि सुनीलम् की रिहाई के लिये देषभर में आंदोलन ओर मुहिम चलाई जायेगी साथ ही कानूनी स्तर पर भी हम न्याय पाने के लिये संघर्ष करते रहेगें।

संदीप पाडे ने कहा कि सुनीलम देश प्रदेश में आम आदमी के लिये लड़ाई लडते रहें है इसलिये सरकार उन पर अंकुश लगाकर अपना राजनैतिक हित देख रही है। सत्ता में आने से पहले यही सरकार उनके रिहाई के पक्ष में थी अब वही उनका और उनके आंदोलन का दमन करने का काम भाजपा सरकार ने किया है।

दीपक भट्ट ने बताया प्रदेश भर में सुनीलम् के पक्ष में लोगों ने अपना समर्थन जाहिर किया है। प्रदेश में ताकत के साथ उनके पक्ष में आदोलनो की एकजुटता बन रही है।

गांधी भवन में आयोजित इस प्रेस वार्ता के बाद  भोपाल के जनांदोलनो के साथियों ने मिलकर सुनीलम् की रिहाई के लिये संघर्ष करने के लिये रणनीति बनाई। साथ ही सरकार पर रिहाई के लिये दबाव बनाने के लिये लगातार प्रयास करने पर सहमति व्यक्त की। इस वार्ता में भोपाल शहर के सामाजिक एवं राजनैतिक कार्यकर्ता भी शमिल रहे।

अधिक जानकारी के लिय संपर्क करें
चितरंजन सिंह 09415249770
पी.यू.सी.एल. (पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज)
दीपक भट्ट 09826306365
पी.यू.सी.एल. (पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज)
गंाधी भवन, भोपाल (म.प्र.)
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।