दयामनी बारला: कब होगा न्याय ?

दयामनी बारला मामले में आज रांची के मजिस्ट्रेड कोर्ट में सुनवाई के बाद उनकी जमानत याचिका को खरिज कर दिया गया है वही आज खूंटी, कर्रा, तोरपा, रनिया, कामडरा और बसिया के आदिवासी दयामनी बरला की रिहाई की मांग को ले कर रांची में राजभवन के सामने पर्दर्शन कर रहे है. पेश है अलोका कि यह रिपोर्ट;

आदिवासी विस्थपन के विरोध में और उनके अधिकारों के लिए झारखंड में लड़ाई लड़ रही दयामनी बारला आदिवासी महिला आंदोलकारी के रूप में लोक हित का कार्य कर रही हैं। उन्हें रांची की एक अदालत द्वारा 18 अक्टूबर, 2012 को भी जमानत मिली थी लेकिन इसके बावजूद उन्हें फिर से बंदी बना लिया गया है.


अवैध भूमिअधिग्रहण के खिलाफ संघर्षरत झारखंड की जुझारू आवाज दयामनी बरला को रिहा करने की मांग को ले कर आदिवासी मूलवासी अस्तित्व रक्षा मंच के बैनर तले आज 11 बजे से राजभवन के समक्ष धरना दिया जा रहा है. वक्ताओं ने आज के फैसले कि आलोचना करते हुये कहा कि दयामनी की गिरफतारी के खिलाफ आदिवासियों में भारी आक्रोश है और ग्रामीण मानते है कि झारखंड सरकार ने कारपोरेट हित के लिए उन्हें जेल में रख है. दयामनी आम आदिवासियों की आवाज हैं ओर जंल में बंद कर उन्हें न तो कमजोर किया जा सकता है और न ही लड़ाइयों को कमजोर किया जा सकता है.

इस धरना में खूंटी, कर्रा, तोरपा, रनिया, कामडरा और बसिया के ग्रामीण क्षेत्रों के आदिवासी भाग लें रहे है ओर राज्यपाल से पांचपीं अनुसूची को पूरी तरह लागू करने तथा नगड़ी समेत राज्य भर में हुए अवैध भूमिअधिग्रहण को रद्द करने, दयामणि बारला को तुरंत रिहा करने की मांग कर रहे है, आदिवासी मूलवासी अस्तित्व रक्षा मंच दयामनी रिहाई के लिय राज्यव्यापी आंदोलन शुरू करने कि रणनीति बना रहा है.
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।