दुखयारे के दुःख को दुखयारा समझे


 कुडमकुलम के परमाणु संयत्र विरोधी आंदोलन पर किये जा रहे दमन के खिलाफ रावत भाटा परमाणु संयत्र के श्रमिकों ने अपनी नाराजगी जाहिर की है. अणु शक्ति डी आर मिक संघ (रावत भाटा) श्रमिक हितों के लिये परमाणु संयंत्र प्रबंधन की मनमानियों से जूझ रहा है. श्रमिक संघ ने इस संदर्भ में प्रधानमंत्री को भी पत्र लिखा है. जिसकी शुरुआत कुडमकुलम के बेकसूरों के साथ किये जा रहे अन्याय की निंदा से की गयी है. यह बड़ी बात है.

     अणुशक्ति डी. आर. श्रमिक संघ, रावतभाटा
पंजीकृत कार्यालय: थाने चौराहा अग्रवाल प्रिन्टींग प्रेस के पास, मेन रोड़, रावतभाटा, जिलाः चित्तौडगढ (राज.) - 323307
पत्राचार पताः सोलंकी कम्प्युटर, लाहोटी हॉस्पीटल के सामने, मदिना मस्जिद के पास, मेन रोड़, रावतभाटा, जिलाः चित्तौडगढ (राज.)-323307
फोनः अध्यक्ष-9694266105, महासचिव-8104925674

सेवा में,
आदरणीय प्रधानमंत्री साहब
भारत सरकार
आदरणीय मुख्यमंत्री साहब
राजस्थान सरकार

विषय:- NPCIL प्रबंधन तथा तमिलनाडू सरकार द्वारा कोणमकुलम के बेकसुर लोगो पर हो
रहे अत्याचार तथा रापबिघ में हो रहें शोषण के सम्बंध में।
आदरणीय महोदय,

NPCIL प्रबंधन तथा तमिलनाडू सरकार द्वारा जिस तरह से कोणमकुलम के बेकसुर लोगो पर अत्याचार किया जा रहा है उसका डी आर श्रमिक संघ, रावतभाटा भी कठीत तौर से निन्दा करता है। कोणमकुलम में आज जो भयानक स्थिति बनी है उसकी ज़िम्मेदार स्वंय NPCIL प्रबंधन है क्योकी NPCIL प्रबंधन जहा भी परमाणु रिएक्टर बनाती है वहा के स्थानिय जनता को रोजगार तथा विकास को लेकर बडे बडे वादे करती है तथा जैसे ही परमाणु रिएक्टर का कार्य पुर्ण हो जाता है NPCIL प्रबंधन अपने वादो से मुकर जाती है तथा अपनी ताकत का इस्तेमाल कर स्थानिय लोगो का शोषण करना शुरू कर देती है।
रावतभाटा में भी दिनांक 18.07.2011 को NPCIL  श्रीमान एस. के. जैन, चित्तौढ़गड
सासंद, सुश्री डा. गिरजा व्यास, एवं क्षैत्रिय विधायक, श्रीमान राजेन्द्र सिंह विधुड़ी, तथा  णुशक्ति डीआर. श्रमिक संघ के प्रतिनिधियों एवं रावतभाटा मैनेजमेंट साइट प्रतिनिधियों के बीच 22 सूत्रीय मांग.पत्र पर विस्तृत चर्चा हुई थी तथा निम्न मॉगे छच्ब्प्स्ए ब्डक् एवं रावतभाटा मैनेजमेंट साइट प्रतिनिधियों द्वारा स्विकार कर लिया गया था जो निम्न है
1. साप्ताहिक अवकाश तथा पब्लिक होलीडेज़ का देनिक वेतन भोगी कर्मियो को वेतन भुगतान किया जाएगा।
2. जिनके वेतन की दरों में कमी की गई थी। उनका वेतन बढा दिया जाएगा।
3. मेन पावर कम नही की जाएगी।
4. स्थानीय एवं कार्यरत अस्थाई कर्मचारियों को स्थाई नियुक्ति में प्राथमिकता।
परन्तु महोदय यह सब छच्ब्प्स् प्रबंधन द्वारा स्थानिय लोगो के साथ किया गया एक धोखा था कियोकि प्रबंधन द्वारा उपरोक्त में से एक भी मांग पुरी नही की गई कारणवश डी आर श्रमिक संघ द्वारा पुनः दिनांक 11.01.2012 हडताल तथा दिनांक 21.05.2012 से 7 दिन का आमरण अनशन करते हुए आन्दोलन किया गया तथा NPCIL प्रबंधन द्वारा दिनांक 04.06.2012 फिर से इन मांगो को पुरी करने की सहमती दी गई परन्तु छच्ब्प्स् प्रबंधन द्वारा फिर से धोखा किया गया आन्दोलन समाप्त होते ही 50 ठेकेदार कर्मचारीयो को कार्य से निकाल दिया गया।
महोदय डी आर श्रमिक संघ, रावतभाटा एैसे परमाणु संयंत्रो का पुर्ण रूप से विरोध करती है जो कि बेकसुर लोगो की जान लेकर स्थपित किए जाए एैसे संयत्रो का होने का किया फायदा जिसमे रोजगार के बदले मौत मिलती हो। रावतभाटा में भी 1 से 6 युनिट उत्पादन कर रही है तथा 7 8 युनिट का कार्य चल रहा है और इन संयत्रो में स्थानिय लोगो को रोजगार न देकर दुसरे राज्यो के व्यक्तियो को रोजगार दिया जा रहा है कारणवश स्थानिय नौजवान बेरोजगार घुम रहा जिसके चलते यह नौजवान मानसिक रूप से प्रताडित हो रहे है और अपने कदम गलत दिशा में लेजा रहे है जैसे की हाल ही में रावतभाटा में बेरोजगारी के चलते दो समुदायो के सेकडांे लोग दिनांक 25.08.12 को साम्प्रदायिक अशांती फैलाने के लिए अलग अलग एकत्रित हो गए थे महोदय अगर यह लोग उस दौरान राजगार से होते तो हर कोई अपने कार्य क्षैत्र पर होता और रावतभाटा में तनाव का माहोल नही होता।
महोदय जल्द ही कोणमकुलम के बेकसुर लोगो को इन्साफ नही दिया गया तथा रावतभाटा के स्थानिय लोगो को रोजगार एव श्रमिक संघ की मांगो को पुर्ण नही किया गया तो डी आर श्रमिक संघ पुनः रावतभाटा में आन्दोलन शुरू करेगा।
धन्यवाद
भवदीय
(मानसिंह सोलंकी) (गिरीवर सिंह) (इमरान खान)
महासचिव उपाध्यक्ष अध्यक्ष
प्रतिलिपि सूचनार्थ एवं आवश्यक कार्यवाही हेतु।
1. श्रीमान ब्डक् साहब, छच्ब्प्स्
2. श्रीमान कलेक्टर साहब., चित्तौडगढ़

...................................................................................................................................................
प्रेस विज्ञप्ति

NPCIL प्रबंधन तथा तमिलनाडू सरकार द्वारा जिस तरह से कोणमकुलम के बेकसुर लोगो पर अत्याचार किया जा रहा है उसका अणुशक्ति डी आर श्रमिक संघ, रावतभाटा भी कठीत तौर से निन्दा करता है। कोणमकुलम में आज जो भयानक स्थिति बनी है उसकी ज़िम्मेदार स्वंय NPCIL प्रबंधन है क्यांेकी NPCIL प्रबंधन जहा भी परमाणु रिएक्टर बनाती है वहां के स्थानिय जनता को रोजगार तथा विकास को लेकर बडे़ बडे़ वादे करती है तथा जैसे ही परमाणु रिएक्टर का कार्य पुर्ण हो जाता है NPCIL प्रबंधन अपने वादो से मुकर जाती है तथा अपनी ताकत का इस्तेमाल कर स्थानिय लोगो का शोषण करना शुरू कर देती है।
महोदय डी आर श्रमिक संघ,रावतभाटा एैसे परमाणु रिएक्टर का पुर्ण रूप से विरोध करती है जो कि बेकसुर लोगो की जान लेकर स्थापित किए जाए एैसे संयत्रो का होने का किया फायदा जिसमे रोजगार के बदले मौत मिलती हो। रावतभाटा में भी 1 से 6 युनिट उत्पादन कर रही है तथा 7 8 युनिट का कार्य चल रहा है और इन संयत्रो में स्थानिय लोगों को रोजगार न देकर दुसरे राज्यो के व्यक्तियो को रोजगार दिया जा रहा है कारणवश स्थानिय नौजवान बेरोजगार घुम रहा जिसके चलते यह नौजवान मानसिक रूप से प्रताडित हो रहे है और अपने कदम गलत दिशा में लेजा रहे है जैसे की हाल ही में दिनांक 25.08.2012 को रावतभाटा में बेरोजगारी के चलते दो समुदायो के सेकडांे लोग भ्रमित होकर साम्प्रदायिक अशांती फैलाने के लिए अलग अलग एकत्रित हो गए थे अगर यह लोग उस दौरान राजगार से होते तो हर कोई अपने कार्य क्षैत्र पर होता और रावतभाटा में तनाव का माहोल नही होता।
जल्द ही कोणमकुलम के बेकसुर लोगो को इन्साफ नहीं दिया गया तथा रावतभाटा के स्थानिय लोगां े को रोजगार एव श्रमिक सघ्ं ा की मागं ो को पुर्ण नही किया गया तो डी आर श्रमिक संघ पुनः रावतभाटा में आन्दोलन शुरू करेगा तथा जरूरत पडने पर जहां भी परमाणु रिएक्टर है, वहां के स्थानिय लोग एक साथ दिल्ली एकत्रित होकर दिल्ली में आन्दोलन करेंगें।
(मानसिहं सोलकं ी) (इमरान खान)
महासचिव अध्य क्ष



Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।