कूडानकूलम संयंत्र के खिलाफ धरने का एक वर्ष पूरा


पीपुल्स मूवमेंट एगेंस्ट न्यूक्लियर एनर्जी के बैनर तले कूडानकूलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का कल 16 अगस्त को एक वर्ष पूरा हो गया। हालांकि परमाणु संयंत्र विरोधी कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि भारत और रूस के सहयोग से चलने वाली इस परियोजना का विरोध तब तक जारी रहेगा जब तक इसे रद्द नहीं किया जाता। पीएमएएनई के संयोजक एसपी उदयकुमार ने कहा, ''हम परमणु ऊर्जा के खिलाफ 1988 से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं हालांकि कूडालकूलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का आज एक वर्ष पूरा हो गया। उन्होंने कहा, ''हमारा विरोध प्रदर्शन तब तक जारी रहेगा जब तक इस परियोजना को रद्द नहीं किया जाता।
पीएमएएनई का गठन स्थानीय लोगों, छोटे कारोबारियों, मछुआरों, महिलाओं के सहयोग से किया गया है और परमाणु संयंत्र के खिलाफ यह संगठन अगस्त 2011 से विरोध प्रदर्शन जारी रखे हुए है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस विषय में गतिरोध तोड़ने का प्रयास किया था और आंदोलन के नेताओं की चिंताओं को सुना था लेकिन उनकी ओर से गठित उच्च स्तरीय समिति आंदोलनकारियों की चिंताओं को दूर करने में विफल रही थी। उदयकुमार ने कहा, ''हमारा मानना है कि परमाणु ऊर्जा हमारे लिए समृद्धि नहीं ला सकती है बल्कि खतरा लायेगी। हम कहते रहे हैं कि हमारा जीवन संकट में है।’’
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।