चुटका परमाणु संघर्ष तेज, राज्यपाल से हस्तक्षेप की मांग

मंडला जिले की हरी-भरी धरती के सुदूर इलाक़े में छोटा सा आदिवासी गांव है- चुटका। तीन साल पहले तक नारायनगंज तहसील में ही इसे बहुत कम लोग जानते थे। आज यह गांव मंडला में ही नहीं, पूरे मध्य प्रदेश में जाना जाता है। राज्य के बाहर भी यह नाम यहां-वहां लोगों की ज़ुबान पर चढ़ने लगा है। उसकी इस शोहरत के पीछे कोई चमत्कारिक उपलब्धि नहीं है। सामने खड़ी पहाड़ जैसी आफ़त ने उसे सुर्ख़ियों में लाने का काम किया है। यह आफ़त परमाणु बिजली संयंत्र की प्रस्तावित परियोजना लेकर आयी है। प्रस्तावित परियोजना के विरोध में चुटका परमाणु संघर्ष समिति  पिछले तीन साल से संघर्षरत है परंतु प्रशासन ने 29 जून को धारा 4 का नोटिस जारी कर दिया. इस नोटिस के विरोध में आज 16 अगस्त को राज्यपाल को ज्ञापन दिया गया है. चुटका परमाणु संघर्ष समिति का ज्ञापन :-








Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।