जिंदल : नहीं थमा है अंगुल के विस्थापितों पर दमन

25 जनवरी 2012 को अंगुल में प्रभावित तथा विस्थापितों के ऊपर जिंदल स्टील एंड पॉवर लिमिटेड द्वारा हिंसात्मक दमन की घटना को हम जानतें हैं यह घटना तब घटी जब स्थानीय प्रभावित तथा विस्थापित लोग अपनी पीड़ा स्थानीय प्रशासन तथा जे एस पी एल के अधिकारियों को सुनाने पहुचें थें। लबें विरोध प्रदर्शनों, आंदोलन तथा लोगों,  स्थानीय प्रशासन और जे एस पी एल के अधिकारियों में साझा बातचीत के बाद कंपनी ने प्रभावित लोगों की मांगे पूरी करने पर रजामंदी भरी थी। मगर कपनी और प्रशासन को इस बारे में कई बार नोटिस भेजने के बाद अभी तक कोई कार्यवाई नहीं हुई। लोगों को परेशान करने के लिए जानबूझ कर रिहबिलेशन एंड पेरीफरी डेवलपमेंट एडवायसरी कमेंटी (RPDAC) की बैठक भी नही बुलाई गई। 

इसलिए प्रभावितों के संगठन ने स्थानीय प्रशासन को प्राथमिक नोटिस भेज कर 22 जुलाई से अपना विरोध आंदोलन शुरू कर दिया है। लोगो ने नजदीकी राष्ट्रीय राजमार्ग तथा जे एस पी एल के सामग्री गेट तथा अन्य द्वारो को बंद कर दिया है। हजारों की तादाद में पुरष, महिलाओं, सामाजिक कार्यकर्ताओं, मानवाधिकार समूहों तथा राजनैतिक कार्यकर्ताओ ने इस आंदोलन में हिस्सा लिया तथा प्रशासन व कंपनी की गैर कानूनी गतिविधियों की भर्त्सना करते हुए न्याय, अधिकार, सुरक्षा के साथ साथ मुआवजें की दर बढ़ाने, स्थायी रोजगार, क्षेत्रीय विकास तथा ‘आरपीडीएसी’  की जल्द ही मीटिंग बुलाने की मांग की ।
24 जुलाई 2012 को जब अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट स्थानीय लोगो के साथ उनकी मागों के संदर्भ में जेएसपीएल कंपनी के गेट पर बातचीत कर रहें थे, तभी जेएसपीएल का एक अधिकारी तेज गति से एक गाड़ी चलाते हुए आया उसने पुलिस व स्थानीय प्रशासन की मौजूदगी में जान बूझ कर एक व्यक्ति को कुचल दिया। मौंके पर काफी लोग एकत्र हो गये थे, उन्होंने बताया कि इसके पीछे पुलिस का मूक समर्थन था. लोगों ने स्थानीय निशा पुलिस स्टेशन का घेराव करके इस दुर्घटना के लिए जिम्मेदार अधिकारी को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की है ।  जेएसपीएल के सभी गेट तथा सड़कों को स्थानीय प्रभावित लोगों ने पूरी तरह से बंद कर दिया। 25 जुलाई को अंगुल के एस0पी0, एडीएम तथा अन्य सरकारी अधिकारी मौके पर आयें तथा उन्होने लोगों से  बातचीत की। एस0पी0 ने लोगों  को आशवासन दिया कि घटना के लिए जिम्मेदार अधिकारी को पुलिस की स्पेशल टीम द्वारा जल्द ही गिरपतार करके जेल भेजा जाऐगा। एडीएम ने वादा किया कि 18 अगस्त 2012 को ‘आरपीडीएसी’ की मीटिंग बुलाई जायेगी जिसमें सभी मुद्दों पर विचार विमर्श किया जायेगा तथा सभी समस्याओं को सुलझा लिया जायेगा।
- अमूल्य कुमार नायक

Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।