किसान बचाओ सत्याग्रह आन्दोलन का आगाज


बांसवाड़ा जिले के केलीयापाड़ा गांव में प्रस्तावित ताप बिजली घर के निर्माण के विरोध में किसान बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले किसान बचाओ सत्याग्रह आन्दोलन का आगाज 10 मई 2012 को रैली के रूप में हुआ। प्रस्तावित सुपर क्रिस्टील पॉवर प्लान्ट के लिए सरकार द्वारा की जा रही भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही को लेकर किसानों ने यह आन्दोलन शुरू किया है। सत्याग्रह आन्दोलन के तहत केलीयापाड़ा फेफर से शुरू हुई पदयात्रा 65 किमी का सफर तीन दिन में तय करते हुए छोटी सरवन, कटुम्बी, डेरी, नापला, कानजी की दुकान चौराहा, पाड़ला चौराहा होती हुई बोरतलाब पहुंची। पदयात्रा के दौरान क्षेत्र के लोगों को पॉवर प्लान्ट से होने वाले नुकसान के बारे में अवगत कराया गया। साथ ही अब तक जिले में हुए विस्थापित लोगों की समस्याओं से भी अवगत कराते हुए उन्हें जाग्रत किया गया। इस यात्रा में बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक सम्मिलित थे। संघर्ष समिति के अध्यक्ष राजेश्वर चरपोटा कहते हैं कि पदयात्रा के दौरान सभी ग्रामीणों को प्रस्तावित ताप बिजली घर से होने वाली समस्याओं से अवगत कराते हुए उन्हें संघर्ष के लिए जाग्रत किया गया है।
Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।