सामाजिक संगठनों पर कसता पुलिसिया शिकंजा, एस.पी. ने मांगी जानकारियाँ

 झारखण्ड में काठीकुण्ड (दुमका) की पुलिस फायरिंग की घटना के बाद सामाजिक संगठन जुड़ावपर कानूनी गैर कानूनी शिकंजा कसने, छत्तीसगढ़ में वनवासी चेतना आश्रम को पूरी तरह से बुलडोज करके ध्वस्त करने के बाद अब पुलिस अधीक्षकों के जरिये सामाजिक संगठनों के बारे में पूरी जानकारी मांगी जा रही है। नियमतः सभी सामाजिक संगठन प्रति वर्ष अपनी गतिविधियों तथा आय-व्यय का विवरण निबंधक सोसाइटीज़ को सौंपते हैं। परंतु पुलिस के द्वारा मांगी जा रही यह सूचनायें कहीं न कहीं सामाजिक संगठनों पर पुलिस के कसते शिकंजे की मिसाल हैं।

इस संदर्भ में रायपुर (छ.ग.) स्थित एक संगठन को भेजा गया पुलिसिया पत्र कुछ इस प्रकार हैः-



Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।