महिला कामगारों के संघर्ष

जहां एक तरफ स्वयं सहायता समूह के जाल में फंसी तथा कर्ज से कराहती महिलायें आत्महत्या करने को विवश हो रही हैं वहीं उत्तर प्रदेश राज्य के कानपुर तथा राजस्थान राज्य के जयपुर शहरों में घरों में काम करने वाली महिलायें अपनी एकता एवं जागरूकता के बल पर अपने आपको एक बेहतर कल के लिए तैयार कर रही हैं।
कानपुर शहर पिछले समय में अवसाद एवं निराशा से ग्रस्त लड़कियों एवं महिलाओं की आत्महत्याओं की घटनाओं के कारण चर्चा में रहा है परंतु पिछले दो सालों से मीनू सूर एवं राजेन्द्री देवी जैसी महिलाओं एवं इनकी साथियों की पहल पर गठित घरेलू महिला कामगार यूनियनघरों में काम करने वाली महिलाओं के बीच में आशा, सम्मान की भावना तथा सरकारी तंत्र द्वारा मान्यता पाने में कामयाब हुई हैं। शोषण तथा छेड़खानी जैसी समस्याओं से भी उन्हें एक सीमा तक निजात मिला है। कामवालियों का पहचान पत्र भी यूनियन ने जारी किया है जिसे पुलिस, प्रशासन, नगरपालिका तथा बैंक भी मान्यता प्रदान कर रहे हैं। यूनियन की महामंत्री मीनू सूर ने बताया कि यूनियन की सदस्यायें हर हफ्ते एक पार्क में इकट्ठा होकर अपनी बैठक करके समस्याओं के बारे में फैसले लेती हैं। यूनियन ने घरों में काम करने वाली महिला कामगारों की मजदूरी की दर भी तय कर रखी है। इसके साथ ही यूनियन असहाय महिलाओं की बच्चियों की शादी कराने, इलाज कराने, राशन दिलाने, बच्चियों को स्कूल भिजवाने के कार्य में भी लगी है। यूनियन ने पिछले समय में हजारों की संख्या में कामगार महिलाओं की समस्याओं को लेकर श्रम आयुक्त तथा जिलाधिकारी के समक्ष जुझारू प्रदर्शन किये हैं।

इसी तर्ज पर राजस्थान के जयपुर शहर में घरेलू कामगार महिलाओं ने भी अपनी यूनियन बनाकर अपनी अगुआ मेवा भारती के नेतृत्व में अपने बदतर हालात सुधारने का बीड़ा उठाया है। मेवा भारती का कहना है कि यूनियन की बढ़ती गतिविधियों से कामगार महिलाओं में साहस बढ़ा है, शोषण के खिलाफ आवाज उठी है तथा मजदूरी की दरें सुधरी हैं। यहां की यूनियन ने अन्य महिला-पुरुष कामगारों के साथ मिलकर एक साझे मंच का प्रयास भी शुरू कर दिया है। यूनियन का मानना है कि असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले कामगारों की व्यापक एकता से ही महिला कामगारों की हालात में बदलाव संभव है।

कानपुर तथा जयपुर दोनों शहरों में पुलिस की ज्यादती, अपराधी तत्वों की हरकतों, दलालों के षड्यंत्रों तथा सरकारी  मशीनरी की उदासीनता और पुरुषवादी मानसिकता का सामना यूनियन को करना पड़ता है।

Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।