28 मार्च को घेरेंगे कलेक्टरेट, देंगे धरना: उच्च न्यायालय में लगायेंगे न्याय की गुहार


16 मार्च 2012 को पी.यू.सी.एल. के प्रांतीय अध्यक्ष चितरंजन सिंह एवं जिला अध्यक्ष तथा मंत्री लक्ष्मण गिरि एवं विकास शाक्य ने दुर्घना स्थल को देखने तथा ग्रामवासियों से मिलने के बाद कहा है कि दुर्घटना में मृत लोगों में से 12 लोगों के शव मिले हैं जिसमें एक स्थानीय निवासी राजकुमार का शव है बाकी 11 श्रमिक मध्य प्रदेश निवासी थे। अभी तक न तो मृतकों को कोई मुआवजा दिया गया है और न साफ तौर पर यह बताया गया है कि इस दुर्घटना में कितने लोग मारे गये हैं।


इस दुर्घटना की सी.बी.आई. से जांच कराने, दोषियों को दण्डित कराने, मृतकों को मुआवजा दिलाने के लिए 28 मार्च को पीयूसीएल तथा स्थानीय मानवाधिकार संगठन सोनभद्र के जिलाधिकारी के समक्ष प्रदर्शन करेंगे और यदि मांगें न मानी गयीं तो अनिश्चितकालीन धरना देंगे। पी.यू.सी.एल. ने न्याय की खातिर माननीय उच्च न्यायालय की शरण में भी जाने का निर्णय लिया है। चितरंजन सिंह ने खनन माफिया, राजस्व विभाग, वन विभाग तथा पुलिस विभाग की मिली-जुली साजिशों के पर्दाफाश की जरूरत पर बल दिया है। - लक्ष्मण गिरि

Share on Google Plus

संघर्ष संवाद के बारे में

एक दूसरे के संघर्षों से सीखना और संवाद कायम करना आज के दौर में जनांदोलनों को एक सफल मुकाम तक पहुंचाने के लिए जरूरी है। आप अपने या अपने इलाके में चल रहे जनसंघर्षों की रिपोर्ट संघर्ष संवाद से sangharshsamvad@gmail.com पर साझा करें। के आंदोलन के बारे में जानकारियाँ मिलती रहें।